आप यहां हैं : होम» राज काज

कड़े विरोध के बीच यूपीकोका पास

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Dec 22 2017 7:39PM
up-vidhan-sabha_20171222193919.jpg
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की विधान सभा में बड़े हंगामे के बाद भी यूपीकोका बिल पारित कर दिया गया. पूरे विपक्ष ने यूपीकोका कानून का जमकर विरोध किया. कई वॉकआउट हुए लेकिन सरकार ने क़ानून को बड़ी संख्या के दम पर पारित करा लिया, लेकिन सरकार की चुनौती अभी खत्म नहीं हुई है, क्योंकि अभी विधान परिषद बाकी है.
 
यूपी सरकार यूपीकोका कानून लेकर आई तो पूरा विपक्ष एक सुर में विफर गया. वॉकआउट के साथ जमकर हंगामा भी हुआ, लेकिन आखीर में सरकार ने इसे पारित करा लिया. सरकार का कहना है कि प्रदेश में आपराधिक जड़ें इतनी गहरी हैं कि उन तक पहुंचने के लिए यह कानून जरूरी हो जाता है. क्योंकि प्रदेश में अपराध संगठित रूप ले रहा है. जिसे रोके बिना विकास का रथ नहीं दौड़ पाएगा.
 
विपक्ष का आरोप है कि इस कानून की आड़ में सरकार विरोधियों को परेशान करने की कोशिश करेगी, और बेकसूर लोग इसका निशाना बनेंगे. जबकि सरकार में शामिल तमाम आपराधिक छवि के लोग सेफ रहेंगे. लिहाजा विपक्ष इस बिल का सदन से लेकर सड़क तक विरोध करेगा. भारत के कई प्रदेशों में ऐसा कानून पहले से मौजूद है. कई स्टेट जैसे मुम्बई में सफल भी रहा है जबकि कुछ जगह इसके नकारात्मक परिणाम भी मिले हैं. जानकारों और सरकार में शामिल कुछ लोगों का मानना है कि मौजूदा  बिल में कुछ संशोधनों की जरूरत है. लिहाजा सरकार को भी इस मुद्दे पर अड़ियल रवैया छोड़कर विचार करना चाहिए.

देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।