आप यहां हैं : होम» राज्य

अस्पताल के स्टाफ ने उतार लिए महिला मरीज़ के जेवर

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Mar 15 2018 7:03PM
aligarh_201831519350.jpg

अलीगढ़. जिले की तहसील अतरौली इलाके के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र से पर्चा लेकर इलाज के लिए आई महिला का प्राइवेट अस्पताल में गर्भपात कर दिया गया. आरोप है कि गर्भपात के बदले रुपये न देने पर अस्पताल के स्टाफ ने महिला के जेवर उतार लिए. इसकी पीड़िता ने सीएचसी अधीक्षक से शिकायत की है.

अलीगढ़ की तहसील अतरौली इलाके के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में गर्भवती महिलाओं के अल्ट्रासाउंड करने की अभी व्यवस्था नहीं है. इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने अतरौली के ही मानस नाम के हॉस्पिटल से अल्ट्रासाउंड कराने की व्यवस्था कर रखी है. जो कि प्राइवेट है. एक पर्चा लिखकर उसी अस्पताल में अल्ट्रासाउंड को भेजा जाता है. गांव मोहसमपुर निवासी विमलेश देवी पत्नी पदम सिंह का आरोप है कि वह दो माह की गर्भवती थी. सोमवार करीब तीन बजे चेकअप के लिए देवर मनोज और देवरानी के साथ सीएचसी गई. डाक्टरों ने चेकअप करके पर्चा बनाकर अल्ट्रासाउंड कराने का परामर्श दिया. पर्चा लेकर प्राइवेट अस्पताल पहुंची तो वहां की डाक्टर ने परिजनों को गुमराह करके उसका गर्भपात कर दिया और 10 हजार रुपये मांगे तो महिला के पास मौजूद दो हजार रुपये दे दिए. बकाया रुपये नहीं मिले तो अस्पताल के स्टाफ ने कानों से कुंडल व पैरों से पायल जबरन उतार लीं, जिससे वहां हंगामा खड़ा हो गया. जिसकी परिजनों के साथ पहुंची विमलेश ने शिकायत सीएचसी अधीक्षक से की. इस संबंध में सीएचसी प्रभारी से शिकायत की गई है.

इस संबंध में जब निजी अस्पताल के डॉक्टर दीपक वार्ष्णेय से बात की गई तो उसने अपनी सफाई पेश की. शिकायत के सम्बंध में जानकारी देते हुए सीएचसी प्रभारी ने बताया कि मामले की शिकायत आई है, मामला गंभीर है जिसकी जांच कराई जा रही है. हालांकि कुंडल पायल उतारने की बात क्लियर हो गई है, तो वहीं डिप्टी सीएमओ ने मामले से अनभिज्ञता जताई है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।