आप यहां हैं : होम» राज्य

बच्चे की लाश अस्पताल में छोड़कर क्यों चले गए माँ-बाप

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jul 6 2018 3:51PM
hospital_201876155111.jpg

बरेली. क्या कोई माँ-बाप अपने बच्चे की लाश छोड़कर भाग सकते हैं. क्या कोई माँ-बाप अपने कलेजे के टुकड़े की लाश को भी देखना नहीं चाहते. आप कहेंगे ऐसा नहीं हो सकता, लेकिन यूपी के बरेली में ऐसा ही एक मामला सामने आया है.

जिला अस्पताल की मोर्चरी में 10 साल के बच्चे दीनदयाल की लाश रखी है. दीनदयाल को बीती रात बदायूं के जिला अस्पताल से बरेली के जिला अस्पताल रेफर किया गया था. रात 12 बजकर 5 मिनट पर दीनदयाल को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया और 2 बजकर 35 मिनट पर उसकी मौत हो गई. सुबह जब बच्चे के शव ले जाने के बारे में उसके माँ-बाप को बुलाया गया तो पता चला कि वह लोग नहीं हैं. देर शाम तक बच्चे के माँ-बाप उसका शव लेने नहीं आये थे.

जिला अस्पताल के मेमो पर बच्चे की डिटेल लिखी हुई है. उस पर नाम लिखा है दीनदयाल उम्र 10 साल पुत्र धर्मपाल थाना उघैती जिला बदायूं. बड़ा सवाल यह है कि आखिर ऐसा क्या हुआ कि जिस माँ ने 9 महीने तक अपने बच्चे को कोख में रखा, दर्द सहा, बच्चे के पैदा होने पर खुशियां मनाईं, हाथ पकड़कर बच्चे को चलना सिखाया, लेकिन जब उसकी मौत हो गई तो माँ बाप ने आखिरी बार अपने कलेजे के टुकड़े के शव को देखना भी नहीं चाहा.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।