आप यहां हैं : होम» राज्य

मानव तस्करी की आशंका में ट्रेन से उतारी गईं 26 बच्चियां

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jul 6 2018 5:44PM
gkp_201876174458.png

गोरखपुर. मानव तस्करी की आशंका को देखते हुये अवध एक्सप्रेस से 26 बच्चियों को जीआरपी ने ट्रेन से उतारा है. इस दौरान बच्चियों को साथ लेकर जा रहे दो संदिग्ध व्यक्तियों को जीआरपी ने हिरासत में लिया है. वहीं एसपी रेलवे पुष्पांजलि के मुताबिक अवध एक्सप्रेस के कोच एस-5 से नरकटियागंज से बच्चियों आगरा ले जाया जा रहा था. सभी बच्चियां की उम्र  करीब 10 से 14 साल के बीच है. साथ ही एसपी ने बताया है कि सभी बच्चियां बिहार के पश्चिमी चंपारण की रहने वाली हैं. बच्चियों को जीआरपी ने चाइल्ड लाइन के सुपुर्द किया है. साथ ही हिरासत में लिये गये दोनों संदिग्ध व्यक्तियों से पूछताछ की जा रही है.

पूछताछ में पता चला है कि बच्चियों को आगरा के मदरसे में पढ़ाई के लिए ले जाया जा रहा था. वहीं आरोपितों के बयानों की पुष्टि के लिए जीआरपी ने बच्चियों के परिजनों से किया संपर्क किया है. एसपी रेलवे ने कहा है कि बच्चियों के परिजनों के आने के बाद ही सच सामने आयेगा. फिलहाल मानव तस्करी की आशंका को देखते हुये हर पहलू को देखते हुये जांच की जा रही है. कल देर रात में गोरखपुर रेलवे जंक्शन पर जीआरपी ने मानव तस्करी की आशंका को देखते हुये 26 बच्चियों को प्लेटफार्म पर उतारा था.

गौरतलब है कि बिहार के मुजफ्फरपुर से बांद्रा जा रही अवध एक्सप्रेस के कोच संख्या एस-5 में कल दोपहर नरकटियागंज के पास 26 छोटी बच्चियों के साथ दो पुरुष सवार हुए. ऐसे में मानव तस्करी की आशंका पर यात्रियों ने जीआरपी और आरपीएफ को दी थी. वहीं कंट्रोल रूम से सूचना प्रसारित होने पर हरकत में आए जीआरपी और आरपीएफ घेराबंदी करने में जुट गये. साथ ही कप्तानगंज रेलवे स्टेशन पर सादे कपड़े में आरपीएफ के दो जवान भी कोच में बैठाये गए. देर शाम ट्रेन के गोरखपुर जंक्शन पर पहुंचते ही जीआरपी और आरपीएफ ने कोच में सवार सभी बच्चियों को नीचे उतारा है. साथ ही बच्चियों के साथ मौजूद बिहार, पश्चिम चंपारण के कोकिलाडीह, लौरिया निवासी सफदर और सहमौली पकड़ी निवासी शेख आशा को हिरासत में लिया गया.

पूछताछ में दोनों ने बताया कि बच्चियों को पढ़ाने के लिए आगरा के एक मदरसे में ले जा रहे थे. मदरसे का नाम, पता पूछने के बाद जीआरपी दोनों के दावे को तस्दीक करने में लगी है. एसपी रेलवे पुष्पांजलि देवी ने बताया कि बच्चियां 10 से 14 वर्ष के बीच की हैं. हिरासत में लिए गए सफदर और शेख आशा के दावे की पड़ताल चल रही है. एसपी पुष्पांजलि ने कहा है कि बिहार के साथ ही आगरा के अधिकारियों से संपर्क किया गया है. ताकि हिरासत में लिये गये आरोपितों के बयानों की पुष्टि की जा सके. इसके साथ ही एसपी रेलवे ने कहा है कि परिजनों के आने के बाद ही बच्चियों के बारे में हकीकत का पता चल पायेगा.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।