आप यहां हैं : होम» विदेश

पाकिस्तान में चुनाव लड़ रही है पहली हिन्दू महिला, रचा इतिहास

Reported by nationalvoice , Edited by avinash , Last Updated: Jul 7 2018 6:05PM
sunita parmar_20187718512.jpg
दिल्ली. पाकिस्तान के इतिहास में पहली बार एक हिन्दू अल्पसंख्यक महिला चुनाव लड़ने जा रही है. सिंध प्रातं की रहने वाली 31 वर्षीय सुनीता परमार ने 25 जुलाई को होने वाले चुनाव के लिए थारपारकर जिले के PS-56 संसदीय क्षेत्र से निर्दलीय पर्चा भरकर मिसाल कायम की है. 
 
बता दें कि थारपारकर जिले में मुसलमान आबादी के लगभग बराबर ही हिन्दू आबादी है. जिसके चलते सुनीता इस चुनाव में जीत भी हासिल कर सकती हैं. वहीँ सुनीता ने चुनाव लड़ने का निर्णय क्षेत्र के हालात को बदलने के लिए लिया है. इस वजह से उन्हें स्थानीय लोगों का अच्छा खासा सहयोग भी मिल रहा है. 
 
पाकिस्तानी मीडिया से मुखातिब होते हुए सुनीता ने कहा कि पिछली सरकार अपने वादों को पूरा करने में नाकाम रही है, इसी वजह से उसने चुनाव लड़ने का फैसला किया. उसका कहना है कि 'इस क्षेत्र में पिछली सरकार ने कुछ भी नहीं किया। यहां तक कि 21वीं सदी में हम हेल्थ और महिलाओं की शिक्षा जैसी बुनियादी जरूरतों के लिए जूझ रहे हैं.' सुनीता परमार ने वादा किया कि अगर वह चुनाव जीत जाती है तो अपने संसदीय क्षेत्र में महिलाओं और स्वास्थ्य सेवाओं के लिए काम करेंगी.
 
बता दें कि मार्च में हिंदू महिला कृष्णा कुमारी कोली मुस्लिम बहुमत वाले देश में पहली बार हिंदू दलित महिला सीनेटर के रूप में चुनी गईं थीं. पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) ने सीनेट में आरक्षित महिलाओं की सीट पर कृष्णा कुमारी को चुना था.

देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।