आप यहां हैं : होम» राज्य

बरेली में बढ़ता जा रहा है कांवड़ यात्रा का विवाद

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Aug 24 2018 3:47PM
bareilly_201882415473.jpg

बरेली. कांवड़ यात्रा निकालने को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है. मामला बिथरी चैनपुर के खजुरिया ब्रम्हनान गांव का है. जहां कांवड़ियों का जत्था बदायूं के कछला घाट जल लेने जा रहा था, लेकिन उमरिया गांव के लोगों ने कांवड़ यात्रा को रोक दिया. जिसके बाद क्षेत्र में तनाव पैदा हो गया, और दोनों पक्ष आमने सामने आ गए. इलाके में फैले तनाव को देखते हुए भारी पुलिस बल के साथ पीएसी को भी तैनात कर दिया गया है.

इस पूरे मामले में जब डीएम से बात की गयी तो उनका कहना था कि इलाके में फैले तनाव को देखते हुए पीएससी के साथ मजिस्ट्रेट को तैनात कर दिया गया है और लोगों को किसी अफवाह पर ध्यान नहीं देने को कहा है.

यूपी के बरेली में कांवड़ यात्रा निकालने को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है. आज एक बार फिर हजारों की संख्या में दोनों समुदाय के लोग आमने सामने आ गए. हालात बहुत ज्यादा तनावपूर्ण होते देख जिले भर का फोर्स और पीएसी को मौके पर भेज दिया गया है.

सड़क पर बम भोले के जयकारे लगाते लोग और भीड़ को तीतर बितर करती पुलिस यह नजारा है नेशनल हाइवे 24 की नकटिया पुलिस चौकी के सामने का. जहां लोगों में पुलिस प्रशासन के प्रति जबरदस्त आक्रोश है. दरअसल सावन के आखिरी सोमवार से एक दिन पहले बिथरी चैनपुर के खजुरिया ब्रम्हनान गांव में करीब 50 कांवड़ियों का जत्था बदायूं के कछला घाट जल लेने जा रहा था. यह सभी मुस्लिम बाहुल्य गांव उमरिया होते हुए कछला जल लेने जा रहे थे लेकिन उमरिया गाँव के लोगों ने कांवड़ यात्रा का विरोध कर दिया और सड़कों पर सैकड़ों लोग आ कर जमा हो गए.

जिसके बाद डीएम ने कांवड़ यात्रा पर रोक लगा दी. इस पर भाजपा के विधायक पप्पू भरतौल उर्फ राजेश मिश्रा ने कांवड़ यात्रा को उमरिया गांव से निकालने की बात कही. उन्होंने कहा कि हर कीमत पर वहीं से कांवड़ निकलेगी. जिसके बाद कांवड़िये धरने पर बैठ गए और पूरे गांव को छावनी में तब्दील कर दिया गया.

यहां तक गांव में जाने वाले हर रास्ते को पुलिस ने बन्द कर दिया. आज विश्व हिंदू परिषद के जिला अध्यक्ष पवन अरोड़ा दर्जनों कार्यकर्ताओं के साथ खजुरिया गांव पहुच गए और वहां धरना शुरू कर दिया. जिस वजह से दोनों समुदाय के लोग एक बार फिर सड़कों पर आ गए. जबकि हिन्दू समुदाय के लोगों का कहना है कि प्रशासन कांवड़ यात्रा को निकलने नहीं दे रहा है. जिस वजह से तनाव है.

इस मामले में डीएम वीरेंद्र सिंह का कहना है कि खजुरिया, उमरिया और नकटिया में तनाव को देखते हुए पुलिस पीएसी और मजिस्ट्रेट को तैनात कर गया है. उनका कहना है कि आज कुछ लोग गांव में ग्रामीणों को समझाने के लिए पहुंचे थे तभी कुछ अफवाह उड़ गई जिस वजह से लोग सड़कों पर आ गए हैं.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।