आप यहां हैं : होम» राजनीति

मंत्री की मौजूदगी में भिड़े सांसद और विधायक

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Oct 4 2018 11:03AM
Basti-2_201810411324.jpg

बस्ती. बीजेपी नेताओं की अंतर्कलह यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह की मौजूदगी में खुलकर सामने आ गई. यहाँ समीक्षा बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह की बैठक के दौरान अचानक माहौल गर्म हो गया. बैठक में प्रभारी मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह के सामने ही भाजपा विधायक सीपी शुक्ला और सांसद हरीश द्विवेदी एक दूसरे को भला बुरा कहने लगे. हालांकि सिद्धार्थ नाथ सिंह ने पूरे मामले में बीच बचाव की कोशिश भी की लेकिन मामला बिगड़ता देख मंत्री से वहां से चलते बने. जबकि सभागार से बाहर आने के बाद विधायक सीपी शुक्ला के समर्थकों ने सांसद के समर्थक कबीर तिवारी को पीट दिया. जिसके बाद मौके पर मौजूद सीओ ने दोनों नेताओं के समर्थकों को शांत कराया. वहीं जव इस मामले पर दोनों नेताओं से बात की गयी तो दोनों ही नेता इस मामले को नकारते नजर आए.

यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह विकास कार्यों और कानून की समीक्षा बैठक करने के लिये बस्ती पहुंचे थे. जहां वे मंडलायुक्त के सभागार में जिले के पाँचों विधायक, सांसद और डीएम व एसपी के साथ मीटिंग कर रहे थे. तभी एकाएक माहौल गरम हो गया और प्रभारी मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह के सामने ही भाजपा विधायक सीपी शुक्ला और सांसद हरीश द्विवेदी एक दूसरे को भला बुरा कहने लगे. वहां मौजूद लोगों की मानें तो सांसद और विधायक अपने अपने वर्चस्व को लेकर भिड़ गये. एक दूसरे के खिलाफ जमकर अभद्र भाषा का प्रयोग किया.

मामले की शुरुआत सांसद के खिलाफ फेसबुक पर अभद्र टिप्पणी करने के मामले को लेकर हुई. हाल ही में सांसद ने मुकदमा दर्ज कराया था और देर रात पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर कोतवाली ले आई मगर सुबह होते ही विधायक सीपी शुक्ला के दबाव में दोनों लड़कों को पुलिस ने छोड़ दिया. इसी बात को लेकर सांसद नाराज थे और बैठक मे पहुंचते ही वे प्रभारी मंत्री से इसकी शिकायत की लेकिन शिकायत करते ही विधायक सीपी शुक्ला आपा खो बैठे और सांसद पर अमर्यादित टिप्पणी करने लगे. फिर दोनों के बीच खूब गरमा गरम बहस होने लगी. प्रभारी मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह के मना करने के बाद भी दोनों सांसद व विधायक रुके नहीं और बात हाथापाई तक आ गई. फिर प्रभारी मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह खुद बैठक से उठकर लखनऊ चले गये. जब कि सभागार से बाहर आने के बाद विधायक सीपी शुक्ला के समर्थकों ने सांसद के समर्थक कबीर तिवारी को पीट दिया.

फिर किसी तरह से सीओ सिटी ने दोनों समर्थकों को अलग किया और मौके से हटाया. काफी देर तक माहौल गरम होने के बाद सांसद भी वापस डाक बंग्ला आ गये. इस मामले को लेकर जब हमने सांसद हरीश द्विवेदी से पूछा तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं हुआ. एक दूसरे को लेकर की गई अभद्र भाषा और टिप्पणी करने के आरोप को सांसद ने सिरे से खारिज कर दिया.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।