आप यहां हैं : होम» राज्य

विकास की तरफ से आँखें मूंदे हैं जनप्रतिनिधि

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Oct 11 2018 3:35PM
kashipur_20181011153551.JPG

काशीपुर. लोग इन दिनों अपने जन प्रतिनिधियों से खासा परेशान हैं. इलाके में विकास रुक गया है, और लोगों को बुनियादी सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं. क्षेत्र की जनता ने चौथी बार विधायक के रूप में हरभजन सिंह चीमा को चुना, लेकिन विकास कराने में फिसड्डी साबित हो रहे हैं. चीमा के रसूख का आलम यह है कि उनकी बीमारी में सीएम त्रिवेंद्र रावत के अलावा पंजाब के पूर्व सीएम प्रकाश सिंह बादल तक चंडीगढ़ के पीजीआई और मेदांता हॉस्पिटल उनका हालचाल जानने पहुंचे थे, लेकिन इसके बावजूद विकास ठप है. दूसरी तरफ जनता ने सांसद के तौर पर भगत सिंह कोश्यारी को चुना लेकिन वह जीत के बाद काशीपुर के साथ सौतेला व्यवहार ही किए जा रहे हैं. भगत सिंह कोश्यारी का कार्यकाल पूरा होने में कुछ ही वक्त बचा है. अब तक वह काशीपुर चार-पांच बार ही आ पाए हैं. अब भगत सिंह कोश्यारी से जब सवाल किया जा रहा है तो वह पत्रकारों पर ही भड़क रहे हैं.

प्रदेश की जनता अपना अमूल्य वोट देकर अपने जनप्रतिनिधि को चुनती है लेकिन वह जनप्रतिनिधि किस तरह जनता की अनदेखी करता है यह काशीपुर में सांचौर पर दिखाई दे सकता है. जहां जनता की समस्याओं को सुनने के लिए कोई भी जनप्रतिनिधि नहीं है. जिससे जनता को काफी परेशानियों का सामना भी करना पड़ रहा है.

विकास का नाम लेकर उत्तर प्रदेश से एक भाग हटाकर उत्तराखंड प्रदेश बनाया गया लेकिन आज प्रदेश की काशीपुर की जनता विकास के लिए तरस रही है. काशीपुर की जनता ने अपना वोट देकर सांसद और विधायक को अपना जनप्रतिनिधि चुना था, लेकिन जनता द्वारा चुने गए जन प्रतिनिधि जनता की उम्मीदों पर जमकर पानी फेरने का काम कर रहे हैं. जिन्हें जनता की परेशानियों से जरा भी सरोकार नहीं है.

विधायक हरभजन सिंह चीमा को काशीपुर की जनता ने चौथी बार विधायक के रूप में अपना जनप्रतिनिधि चुना है, लेकिन हरभजन सिंह चीमा विकास करवाने में असमर्थ दिखाई दे रहे हैं.

उत्तराखंड सरकार भी निकाय चुनाव नहीं करा पा रही है. जिसका नतीजा है कि विगत कुछ माह से नगर निगम में मेयर का पद भी खाली पड़ा है. जिससे विकास कार्य भी ठप्प पड़े हैं, और जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. भाजपा के प्रदेश कोषाध्यक्ष आशीष गुप्ता लगातार क्षेत्र में विकास होने की बात कर रहे हैं.

जब पत्रकार सांसद भगत सिंह कोश्यारी से उनके कार्यकाल में किये गए विकास कार्य और काशीपुर की अनदेखी के बारे में पूछा गया तो वह पत्रकारों पर ही भड़क उठे और पत्रकारों को कांग्रेस का एजेंट बता दिया.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।