आप यहां हैं : होम» देश

राफेल पर पीएम की चुप्पी मतलब दाल में काला : शत्रुघ्न सिन्हा

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Oct 12 2018 10:41AM
sapa-3_20181012104159.jpg

लखनऊ. राजधानी लखनऊ में समाजवादी पार्टी के कार्यालय में भाजपा नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा के पहुँचने को भारतीय जनता पार्टी के लिए बहुत बड़ा झटका माना जा रहा है. समाजवादी पार्टी के कार्यालय में यशवंत सिन्हा ने मौजूदा दौर की तुलना इमरजेंसी से करते हुए कहा कि जनता अगर अभी भी नहीं चेती तो आने वाले समय में हालात और भी खराब हो जायेंगे. शत्रुघ्न सिन्हा ने इस मौके पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लेकर भविष्य के लिए काफी उम्मीद ज़ाहिर की. उन्होंने कहा कि अखिलेश ने बहुत कम उम्र में राजनीति में अपनी बहुत बड़ी जगह बना ली है.

समाजवादी पार्टी के दफ्तर में लोकनायक जयप्रकाश नारायण की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम में कई बड़े नेताओं का जमावड़ा देखने को मिला. यहाँ पर सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव अपने पुत्र और पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ पार्टी कार्यलय पहुंचे. हालाँकि इसमें कोई हैरानी नहीं क्योंकि वे पहले भी साथ में पार्टी कार्यालय आते रहे हैं. वहां मौजूद लोगों को हैरानी तब हुई जब उनके साथ भाजपा के बागी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा और पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा भी दिखाई दिए. यह सभी सपा कार्यालय पहुंचे और मीडिया से बातचीत की.

यशवंत सिन्हा ने कहा कि राफेल सौदा हुआ और देश के रक्षा मंत्री को नहीं पता कि राफेल का सौदा हुआ है. देश में नोट बंदी होने वाली थी तो देश के वित्त मंत्री को ही जानकारी नहीं थी कि नोटबंदी होने वाली है. यशवंत सिन्हा ने कहा कि आज की विदेश मंत्री सिर्फ ट्वीट करती हैं क्योंकि कभी पीएम ने विदेश यात्रा पर विदेश मंत्री को नहीं कहा कि साथ चलिए. इसलिए वह बेचारी बैठी रहती हैं. यशवंत सिन्हा ने कहा कि टिम्बकटू से बिना निमंत्रण के भी हमारे प्रधानमंत्री जा सकते हैं.

यशवंत सिन्हा ने कहा कि मुझे जय प्रकाश नारायण जी के साथ काम करने का मौका मिला, चंद्रशेखर जी के साथ काम करने का मौका मिला, मुलायम सिंह जी के साथ काम करने का मौका मिला. उन्होंने कहा कि दुराचार, भ्रष्टाचार, की सरकार जो दिल्ली में है उससे लड़ना है. आज हम लोग यह संकल्प लेकर जाएंगे. उन्होंने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश से इनकी छुट्टी हो गयी तो समझिए दिल्ली से भी इनकी छुट्टी हो गयी.

भाजपा के फायर ब्रांड नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने यहाँ कहा कि आज सम्पूर्ण क्रांति के नायक जय प्रकाश नारायण जी की जयंती है. आज लोग यशवंत सिन्हा को जय प्रकाश नारायण की तरह देख रहे हैं. भारत की राजनीति के साथ ही यूपी की राजनीति में अपनी पकड़ बनाने वाले जानदार शानदार नेता अखिलेश यादव ने जो इतनी कम उम्र में अपनी वाणी की जो परिपक्वता दिखाई है, कई बार लगता है इनका जादू सर चढ़ कर बोलता है. मैं बड़े भाई यशवंत जी की तरह जय प्रकाश जी के इतना करीब तो नहीं रहा लेकिन उनका सानिध्य जरूर प्राप्त हुआ.

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि जब मैं फिल्मों में था तब मैं जय प्रकाश जी के भाषण सुनने जाता था. मोदी सरकार द्वारा की गई नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि यह तुगलकी फरमान था, कि आज से नोट बन्द. नोट बंदी के बाद जीएसटी लागू कर दिया. साल में 365 दिन होते हैं साल भर पूरा हुआ नहीं लेकिन जीएसटी में 357 संशोधन हो चुके हैं. गुरुद्वारों और लंगरों में भी जीएसटी लगा दिया.

शत्रुघ्न सिन्हा ने सवाल उठाया कि राफेल में सिर्फ इतना बता दें कि एचएएल जो कि इतनी बड़ी कंपनी है, जिसने मिग जैसे बड़े बड़े विमान बनाये. उसको टेंडर न देकर सिर्फ 10 दिन पुरानी कंपनी को टेंडर क्यों दे दिया, जिसने कभी जहाज नहीं बनाया. यहाँ अखिलेश यादव तैयार हो चुका है, बिहार में तेजस्वी यादव तैयार हो चुका है, मेरे घर का टॉयलेट तोड़ दिया. खिसयानी बिल्ली खंबा नोचे.

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि अगर कभी आपको मेरी जरूरत लगेगी तो मैं जय प्रकाश नारायण जी के गुरु मन्त्रों को मान कर, राम के छोटे भाई शत्रुघ्न की तरह रघुकुल की रीत निभाउंगा. उन्होंने कहा कि मैं यशवंत भाई के साथ पूरे देश के कोने कोने में भ्रमण कर रहा हूँ. मुझसे लोग कहते हैं बिहारी बाबू आप बीजेपी में हैं, फिर बगावत क्यों तो मैं कहता हूं अगर सच बोलना बगावत है, तो मैं बागी हूँ.

उन्होंने कहा कि मैं जय प्रकाश जी से सीख कर आया हूँ कि व्यक्ति से बड़ी पार्टी होती है और पार्टी से बड़ा देश होता है. देश से बड़ा कोई नहीं होता है. नोट बंदी पार्टी का फैसला नहीं था. अगर पार्टी का फैसला होता हो सब को मालूम होता. उन्होंने कहा कि कभी सोचा कि नोटबंदी से क्या हुआ. कितने लोग मर गए हमारी भाभी बहनें लाइन में लग गईं. लोग अपने पैसे के लिए सड़क पर आ गए.

इस मौके पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि मैं चाहता था कि जो जय प्रकाश अन्तर्राष्ट्रीय सेंटर बनाया था, उसमें मिलता लेकिन नहीं मिल पाया लेकिन अगली बार उम्मीद करता हूँ कि उसी में मिलूंगा. जेपी जी को याद कर रहे हैं तो जो उन्होंने नारा दिया सम्पूर्ण क्रांति का उसका नतीजा यह हुआ कि दिल्ली की सरकार हिल गयी. उसके बाद समाजवादी विचारधारा वालों की पार्टी बनी.

शत्रुघ्न सिन्हा की तरफ देखते हुए अखिलेश ने कहा कि जो अपने कहा खामोश. अब देखिएगा वह लोग जरूर खामोश हो जाएंगे. देश की जनता इंतज़ार कर रही है दिल्ली के चुनाव का. रुपया काला सफेद नहीं होता है. जो आपका हमारा लेन देन होता है वह काला सफेद होता है. दुनिया के सबसे बड़े लीडर जहाँ बैठ कर राजनीति तय करते हैं वहाँ हमारे पीएम कह कर आये की मुझे 600 करोड़ लोगों ने चुन कर भेजा है.

अखिलेश यादव ने कहा कि कानून व्यवस्था बची नहीं है. जितनी लोकतांत्रिक संस्थाएं बची हैं सब पर हमला हुआ है. हमारे सीएम ने कानून व्यवस्था के लिए कहा कि ठोक दो और ठोक दिया. पुलिस ने इसी लखनऊ में निर्दोष को मार दिया. गुजरात से यूपी और बिहार के लोगों को पीटकर भगाए जाने पर भी अखिलेश ने सवाल उठाये.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।