आप यहां हैं : होम» अपराध

साधू ने मासूम से किया दुष्कर्म फिर उसकी जान ले ली

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Nov 9 2018 9:05AM
kushinagar_20181199512.jpg

कुशीनगर. उत्तर प्रदेश में आये दिन हत्याएं अब आम बात हो चुकी है. लेकिन खबर अगर किसी बच्चे के साथ अप्राकृतिक शोषण की हो तो यह खबर बेहद महत्वपूर्ण होती है. बच्चो के अपहरण होने की खबर यूपी में चिंता का विषय है. फिरौती और आपसी दुश्मनी में बच्चे की हत्या की ख़बरें भी बराबर सुनने को मिलती रहती हैं लेकिन यूपी के कुशीनगर में अप्राकृतिक दुष्कर्म में किसी मासूम की हत्या की खबर ने पूरे जिले में सनसनी फैला दी है.

मासूम बच्चों को डरा धमका कर उनके साथ कुकर्म करने वाले एक वहशी ने 4 दिन पहले गायब बालक की हत्या कर दी. घटना कुशीनगर के कुबेरस्थान थाना अंतर्गत रहसू गांव की है जहां एक बच्चे के साथ अप्राकृतिक कुकर्म फिर हत्या किये जाने की घटना ने पूरे गांव के लोगों को सदमे में डाल दिया.

कुशीनगर के कुबेरस्थान थाना अंतर्गत रहसू गांव निवासी शैलेश मिश्रा उर्फ साधु बाबा नरपिशाच मासूम को बहला-फुसलाकर कर ले गया और उसके साथ कुकर्म करने के बाद उसकी हत्या कर दी. इस घटना ने सबको हैरान कर दिया है. गांव में बनी अपनी झोपड़ी में वह बच्चो को ले जाकर उनके साथ कुकर्म करता था. बाद में बच्चो की हत्या भी कर देता था. इससे पहले भी वह बच्चों के साथ कुकर्म करने और गला दबाकर मारने के प्रयास के आरोप में कई बार पुलिस द्वारा थाने  भी लाया जा चुका है, लेकिन अपने रसूख की वजह से हर बार बच जाता है, लेकिन इस बार यह हैवान हो चुका इंसान के रूप में नरपिशाच शैतान ने 11 वर्षीय दिवांशु को अपना शिकार बनाया. जिसे बीते 4 नवम्बर की शाम को करीब 6.30 बजे अपने दरवाजे पर अकेले बैठा दिवांशु मासूम को बहला- फुसलाकर कर एक झोपड़ी में लेकर चला गया. गांव के स्वजातीय होने के कारण मासूम भी उसके साथ बेहिचक चला गया.

बताते हैं कि नशे का आदी हो चुका शैलेश मिश्रा अपनी झोपड़ी के अंदर जाते ही अपनी हैवानियत पर उतर गया. जबरिया मासूम को अपनी हवस का शिकार बनाया फिर मासूम की हत्या कर दी और भेद खुलने के डर से लाश को छिपा कर चम्पत हो गया. फिलहाल पुलिस ने आरोपित शैलेश मिश्रा उर्फ साधु बाबा को गिरफ्तार कर लिया है. जिसकी निशानदेही पर मासूम का शव भी पुलिस ने बरामद कर लिया है. कई दिन बीत जाने के कारण शव सड़ गया था. पीड़ित परिवार ने बच्चे के कपड़े से 11 वर्षीय दिवांशु की पहचान की है. मृतक दिवांशु  का शव मिलने से परिवार सदमे में चला गया है. माँ का रो-रोकर बुरा हाल है. आँखों से आँसू रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं.

इस दुख की घड़ी में मृतक बच्चे के घर पर पूरा का पूरा गांव खड़ा है. घर से लेकर पूरे गांव के लोगों को यकीन नहीं हो रहा है कि जो बच्चा 4 दिन पूर्व अपने दरवाजे पर खेल कूद रहा था. वह आज उनके बीच नहीं है. पीड़ित परिवार ने जहां इस घटना को लेकर पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़ा किया है, वहीं समय रहते बच्चे को न ढूंढ पाना बच्चे की मौत का कारण माना है.

मृतक बच्चे के गांव का रहने वाला 50 वर्षीय शैलेश मिश्रा उर्फ साधु बाबा के नाम से पुलिस को नामजद तहरीर देने के बावजूद पुलिस ने समय रहते कार्रवाई नहीं की. अगर कार्रवाई हुई होती तो शायद बच्चा आज सही सलामत होता. कुशीनगर पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्रा ने बताया कि आरोपित ने अपना गुनाह कबूल किया है. जिसे संगीन धाराओं में केस दर्ज कर तफ्तीश की जा रही है कि इस तरह की और कितनी घटनाओ को अंजाम दे चुका है.

फिलहाल पुलिस पोस्टमार्टम के रिपोर्ट आने के बाद साफ कर पायेगी की यह घटना किसी रंजिश में की गई है या अप्राकृतिक दुष्कर्म को छिपाने के लिए किया गया है. पीड़ित का पुलिस के ऊपर लगाए गए लापरवाही के आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते हुए पुलिस अधीक्षक ने बताया कि समय रहते पुलिस कार्रवाई की है. वहीं आक्रोशित ग्रामीणों को देखते हुए पुलिस अधीक्षक कुशीनगर ने आरोपित के घर पीएसी फ़ोर्स लगा दी है, ताकि आरोपित के परिवार के अन्य सदस्यों को किसी तरह का नुकसान न हो सके.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।