आप यहां हैं : होम» धर्म-कर्म

जो राम का नहीं वह हमारा नहीं

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Nov 25 2018 5:04PM
mauni baba-2_2018112517429.jpg

अयोध्या. सगरा आश्रम के पीठाधीश्वर मौनी महराज की अगुआई में हजारों की संख्या में लोग विश्व हिंदू परिषद की धर्मसभा में शामिल होने के लिए अयोध्या पहुंचे थे. मौनी महराज और उनके समर्थक गौरीगंज थाना क्षेत्र के बाबूगंज सगरा से रवाना होकर अयोध्या पहुंचे थे.

अयोध्या में संतों ने इस बात पार सख्त नाराजगी जताई कि केन्द्र और प्रदेश में बीजेपी सरकार होने के बावजूद अयोध्या में भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर निर्माण के लिए तारीख तक तय नहीं हो पाई.

अयोध्या में संतों ने कहा कि राम मंदिर निर्माण की तारीख अब हम तय करेंगे. साथ ही संतों ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को चेतावनी दी कि वह अयोध्या की ज़मीन पर से अपना दावा वापस ले ले वर्ना हम देश की 40 हज़ार मस्जिदों में मंदिर बनायेंगे और उसकी शुरुआत हम काशी और मथुरा से करेंगे.

संतों ने बाबर को भारत का दुश्मन बताते हुए कहा कि बाबर के नाम पर हम भगवान राम की ज़मीन नहीं देंगे. संतों ने नारा लगाया कि सौगंध राम की खाते हैं, अपमान का बदला लेंगे, बाबर भारत का दुश्मन है इसको स्थान नही देंगे. संतों ने भरोसा जताया कि 6 दिसंबर के पहले राम मंदिर निर्माण का काम प्रारम्भ हो जाएगा.

संतों ने स्पष्ट रूप से कहा कि जिन्हें राम चाहिए वो राम की बात करें. वोट चाहिए तो अपने घर वापस जाएँ. सरकार में रहने वाले लोग कान खोल कर सुन लें, जो रामलला का नहीं वो हमारा नहीं.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।