आप यहां हैं : होम» राज्य

हाथी का दांत साबित हुईं लाखों की हाईटेक लाइटें

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jan 12 2019 11:22AM
traffic light_2019112112253.jpg

लखनऊ. राजधानी लखनऊ में यातायात सुचारू करने के लिए नई टेक्नोलॉजी के हिसाब से हर चौराहे पर लाइटें लगाई गई हैं. वहीं शहीद पथ चौराहे और चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट पर यातायात हमेशा बाधित रहता है. राजधानी में आयोजित इन्वेस्टर्स समिट कार्यक्रम के दौरान शहर को डिजिटल प्रदर्शित करने की शासन प्रशासन की मंशानुरूप शहर भर में डिजिटल लाइटें लगाई गई थीं. इसी क्रम में शहीद पथ तिराहे और एयरपोर्ट के वीआईपी तिराहे पर भी लाइटें लगवाई गई थीं. जो कुछ दिनों तक तो काम करती रहीं, लेकिन समिट कार्यक्रम के बाद से ही यातायात लाइटें चालू नहीं हैं. जिससे यातायात व्यवस्था पुराने ढर्रे पर चलने को मजबूर है. वहीं जब जिम्मेदारों से बात की गई तो वह अपना पल्ला झाड़ते नजर आए.

जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हाईटेक सिटी बनाने की बात कह रहे हैं वहीं यातायात व्यवस्था किस हिसाब से हाईटेक चल रही है यह किसी से छिपा नहीं है. मालूम हो कि जहां इन्वेस्टर्स समिट के दौरान तमाम विदेशी उद्योगपति प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पहुंचे हुए थे. उसी दौरान लाखों रुपए की लागत से इन सिग्नल की लाइटों को लगवाया गया था जो यातायात के लिए बेमानी साबित हो रहे हैं.

इस मुद्दे पर जब जिम्मेदारों से बात की गई तो वह अपना पल्ला झाड़ते नजर आए और बात करने से इंकार कर दिया. अब सवाल उठता है कि जहां एक ओर हाईटेक बनाने की बात की जा रही है. वहीं हाईटेक योजना में सेंध लगाने का काम कर रहे हैं भ्रष्ट अधिकारी. अब देखना यह होगा ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों पर किस तरह की कार्रवाई होती है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।