आप यहां हैं : होम» राज्य

बर्फबारी के बाद रास्तों पर फंसे 15 पर्यटकों को सुरक्षित निकाला गया

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jan 24 2019 11:10AM
rudrpryaag_2019124111047.jpg

रुद्रप्रयाग. तीन दिनों से रुद्रप्रयाग के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में हुई भारी बर्फवारी से मिनी स्विटजरलैंड कहे जाने वाले चोपता में फंसे 15 पर्यटकों को पुलिस प्रशासन की मदद सुरक्षित निकाला गया है. यह पर्यटक जयपुर, दिल्ली, नोएडा और गुडगाँव से चोपता घूमने आये थे, लेकिन लगातार हुई बर्फवारी के कारण सड़क बंद हो गयी. जिस कारण पर्यटक फंसे रहे. पर्यटकों को निकालने के लिए आपदा प्रबंधन एवं पुलिस की टीम मौके पर रवाना हुई, और पर्यटकों को सकुशल सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया दिया गया.

मिनी स्विटजरलैंड माने जाने वाले उत्तराखंड के दर्शनीय पर्यटन स्थल में फंसे 15 पर्यटकों को सुरक्षित निकाल लिया गया है. केदारनाथ धाम में सात फीट तक पड़ी बर्फ के बाद तापमान माइनस 14 डिग्री पहुँच गया है और इससे मजदूरों को खासी दिक्कतें हो रही हैं. बांसबाड़ा में राजमार्ग पांच घंटे तक बंद रहा. बुधवार की शाम को बारिश के बंद होने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली.

विगत तीन दिनों से जनपद रुद्रप्रयाग के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में हुई भारी बर्फवारी से मिनी स्विटजरलैंड चोपता में फंसे 15 पर्यटकों को पुलिस प्रशासन की मदद से सुरक्षित निकाला गया है. यह पर्यटक जयपुर, दिल्ली, नोएडा, गुडगाँव से चोपता घूमने आये थे, लेकिन लगातार हुई बर्फवारी के कारण बनियाकुंड सहित अन्य जगहों पर राजमार्ग पर भारी बर्फवारी होने से सड़क बंद हो गयी, जिस कारण पर्यटक फंसे रहे.

बुधवार को पर्यटकों को निकालने के लिए आपदा प्रबंधन एवं पुलिस की टीम मौके के लिए रवाना हुई और पर्यटकों को सकुशल सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया. पुलिस प्रशासन की मदद का पर्यटकों ने तहे दिन से शुक्रिया अदा किया. वहीं हिमालयी क्षेत्र की घाटियां शीतलहर की चपेट में हैं. तीन दिनों से भारी बर्फवारी और बारिश के कारण ठंड बढ़ गयी है. बारिश और बर्फवारी के कारण जिले के दो प्रमुख मार्ग बुधवार को बंद हो गए. सुबह के समय रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग के बांसबाड़ा में मलबा आने से राजमार्ग पांच घंटे बाधित रहा, जबकि ऊखीमठ-चोपता मार्ग पर पोतीबासर के पास बर्फ पड़ी होने से मार्ग बंद रहा, जिसे साफ करने में विभाग के पसीने छूट गये.

केदारनाथ धाम में बर्फवारी से पुनर्निर्माण के कार्य पूरी तरीके से प्रभावित हो चुके हैं. अब बर्फ को साफ करने के बाद निर्माण कार्यों को शुरू किया जायेगा.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।