आप यहां हैं : होम» राज्य

असंवेदनशील सिस्टम की भेंट चढ़ गई पिंकी

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Mar 27 2019 4:35PM
kotdwar_2019327163540.jpeg

कोटद्वार. पिंकी प्रसाद के इलाज में लापरवाही से मौत पर सरकार सकते में है. अटल आयुष्मान योजना का गोल्डन कार्ड होने के बावजूद पिंकी को इलाज नहीं मिल पाने के कारण उसकी मौत हुई. पिंकी प्रसाद की मौत का मामला सामने आने के बाद सरकार ने पूरे मामले की जांच के आदेश कर दिए हैं. स्वास्थ्य निदेशालय ने कोटद्वार सीएमएस को जांच के आदेश दिए हैं. साथ ही पौड़ी डीएम ने भी जांच कर रिपोर्ट मांगी है.

सरकार अटल आयुष्मान योजना को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रही थी. लेकिन, योजना लागू होने के बाद जब लोग उपचार के लिए लिस्टेड अस्पतालों में पहुंच रहे हैं, तो उनको इलाज नहीं मिल पा रहा है. पिंकी प्रसाद के साथ भी यही हुआ. कोटद्वार सीएमएस खुद ही कह रहे हैं कि पिंकी प्रसाद ऋषिकेश एम्स में भी गई थी. वहां से उनको फोर्टिस अस्पताल भेजा गया. वहां भी पिंकी का इलाज नहीं किया गया. हार्ट पेशेंट पिंकी इसके बाद महंत इन्द्रेश अस्पताल गईं. वहां भी उनको निराशा ही हाथ लगी. अस्पताल ने दो लाख से अधिक का स्टीमेट थमा दिया. जिसके बाद निराश होकर पिंकी वापस कोटद्वार लौट गई और तहसील परिसर में धरना शुरू कर दिया. धरना-प्रदर्शन के बाद वन मंत्री हरक सिंह रावत ने उनको एक चिट्ठी थमाकर जौली ग्रांट अस्पताल भेज दिया. जब तक पिंकी का इलाज होता. बेरहम और असंवेदनशील सिस्टम के चक्कर काटते-काटते काफी देर हो चुकी थी.

सरकार ने पूरे मामले की जांच के आदेश कर दिए हैं कि आखिर पिंकी को गोल्डन कार्ड का लाभ क्यों नहीं मिला. स्वास्थ्य निदेशालय ने कोटद्वार सीएमएस को जांच के आदेश दिए हैं. साथ ही पौड़ी डीएम ने भी जांच कर रिपोर्ट मांगी है. दरअसल, सरकार अटल आयुष्मान योजना को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रही थी, लेकिन, योजना लागू होने के बाद जब लोग उपचार के लिए लिस्टेड अस्पतालों में पहुंच रहे हैं, तो उनको इलाज नहीं मिल पा रहा है. पिंकी प्रसाद के साथ भी यही हुआ.

धरना-प्रदर्शन के बाद वन मंत्री हरक सिंह रावत ने उनको एक चिट्ठी थमाकर जौली ग्रांट अस्पताल भेज दिया. जब तक पिंकी का इलाज होता. बेरहम और असंवेदनशील सिस्टम के चक्कर काटते-काटते काफी देर हो चुकी थी. सिस्टम और बीमारी ने पिंकी को बेमौत मार दिया. उम्मीद है सरकार जांच में अस्पतालों की लापरवाही पर कार्रवाई करेगी. देखना यह होगा कि पिंकी की मौत के बाद सरकार और सिस्टम कितनी गंभीरता दिखाता है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।