आप यहां हैं : होम» धर्म-कर्म

केदारनाथ धाम के लिये रवाना हुई पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: May 6 2019 8:02PM
kedarnath_20195620219.jpg

रुद्रप्रयाग. केदारनाथ भगवान की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली अपने शीतकालीन गद्दीस्थल से केदारनाथ धाम के लिये रवाना हो गई है. डोली रवानगी के अवसर पर शीतकालीन गद्दीस्थल में श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ पड़ा. आर्मी बैंड की मधुर धुनों पर श्रद्धालु बाबा केदार की भक्ति में जमकर झूमते रहे. बाबा को धाम रवाना करते समय श्रद्धालुओं का उत्साह देखते ही बन रहा था.

विश्व विख्यात भगवान केदारनाथ शीतकाल के छह माह तक अपने भक्तों को आशीष देने के लिये केदारनाथ रवाना हो गये हैं. सुबह बाबा केदार के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ से बाबा केदार को विधि-विधान और हजारों भक्तों की जयकारों के साथ धाम के रवाना किया गया. बाबा केदार की चांदी की भोग मूर्ति और डोली को भव्य तरीके से फूल-मालाओं से सजाया गया. बाबा केदार की डोली ने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर की परिक्रमा की ओर केदारनाथ के लिये रवाना हो गई.

विश्व विख्यात केदारनाथ की डोली शीतकालीन गद्दीस्थल से केदारनाथ के लिये रवाना करने के लिये उमड़ी भक्तों की भारी भीड़ बाबा केदार की पैदल डोली यात्रा में साथ चल रहे हैं. हजारों भक्त बाबा केदार की डोली की अगुवाई कर रहे हैं. आर्मी बैंड और भक्तों के जयकारों से शीतकालीन मंदिर गुंजायमान हो उठा है.

ग्यारहवें ज्योर्तिलिंग विश्व विख्यात केदारनाथ भगवान की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली अपने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ से केदारनाथ धाम के लिये रवाना हो गई है. डोली रवानगी के अवसर पर शीतकालीन गद्दीस्थल में श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ पड़ा. आर्मी बैंड की मधुर धुनों पर श्रद्धालु बाबा केदार की भक्ति में जमकर झूमते रहे. बाबा को धाम रवाना करते समय श्रद्धालुओं का उत्साह देखते ही बन रहा था.

विश्व विख्यात भगवान केदारनाथ शीतकाल के छह माह तक अपने भक्तों को आशीष देने के लिये केदारनाथ रवाना हो गये हैं. आज सुबह बाबा केदार के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ से बाबा केदार को विधि-विधान और हजारों भक्तों की जयकारों के साथ धाम के रवाना किया गया. बाबा केदार की चांदी की भोग मूर्ति और डोली को भव्य तरीके से फूल-मालाओं से सजाया गया. बाबा केदार की डोली ने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर की परिक्रमा की ओर केदारनाथ के लिये रवाना हो गई.

बाबा की डोली को केदारनाथ रवाना करने से पूर्व भक्त आर्मी बैंड के मधुर धुनों पर जमकर झूमे. ऐसा लग रहा था कि साक्षात बाबा केदार शीतकालीन गद्दीस्थल में उतर आये हों. बाबा केदार की पैदल यात्रा के साथ हजार श्रद्धालु भी साथ चल रहे हैं. आज बाबा केदार की डोली फाटा में प्रथम रात्रि प्रवास करेगी. मंगलवार को बाबा केदार की डोली दूसरे रात्रि प्रवास के लिये गौरीकुंड पहुंचेगी और आठ मई को तीसरे रात्रि प्रवास के लिये केदारनाथ पहुंचेगी. जिसके बाद नौ मई को सुबह पांच बजकर 35 मिनट पर बाबा केदार के द्वार खोल दिये जाएंगे. जिसके बाद भक्त छह माह तक केदारनाथ में बाबा केदार के दर्शन कर सकेंगे.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।