आप यहां हैं : होम» राज्य

बाइक से हो सकती है चार धाम यात्रा !

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: May 22 2019 2:26PM
Deshraj karanval_2019522142622.jpg

रोहित डिमरी

रुद्रप्रयाग. भाजपा विधायक देशराज कर्णवाल ने भी माना कि चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाएं फैली हैं. यात्रा मार्ग पर सुविधाएं जुटाने के लिए उन्होंने सरकार को पत्र लिखने और सीएम के सामने समस्याएं रखने की बात कही है.

तीर्थाटन और पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से झबरेड़ा (हरिद्वार) के विधायक देशराज कर्णवाल बाइक से यात्रा कर रहे हैं. वे अपने साथ गार्ड को भी लेकर चल रहे हैं. उनका मकसद है कि देश-विदेश के तीर्थयात्रियों तक ये संदेश पहुंचे कि चारधाम की यात्रा दुपहिया वाहन से भी की जा सकती है और यात्रा में आने वाले तीर्थयात्रियों को राजमार्ग से आने में कोई खतरा नहीं है.

बाइक में सवार झबरेड़ा (हरिद्वार) के विधायक कुछ दिन पहले ही विधायक कुंवर चैंपियन से पंगा ले चुके हैं. इन दिनों विधायक जी चारधामों की बाइक से यात्रा कर रहे हैं. तीर्थयात्री दूरस्थ शहरी इलाकों से बाइक में यात्रा कर सकते हैं. जय बदरी-केदार फिर मोदी सरकार का नारा लेकर मोटर साइकिल से बदरी केदार यात्रा कर लौटे झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल ने कहा कि देश में एक बार फिर मोदी सरकार बन रही है.

मोदी को प्रधानमंत्री बनाए जाने की कामना को लेकर उन्होंने मोटर बाइक से चारों धामों की यात्रा की है. मुख्यालय पहुंचे झबरेड़ा विधायक देशराज ने कहा कि यात्रा मार्गों पर जरूरी सुविधाएं जुटाने के लिए वे सरकार को पत्र देंगे. साथ ही विधानसभा में भी प्रस्ताव रखेंगे. उन्होंने कहा कि गैरसैंण उत्तराखंड का दिल और झबरेड़ा प्रवेश द्वार है. इसलिए उनके लिए गैरसैंण दूर नहीं है. भाजपा विधायक कर्णवाल ने बताया कि मोदी के दुबारा प्रधानमंत्री बनने की चाह को लेकर उन्होंने मोटर साइकिल से श्रीबदरी-केदार की यात्रा की है. उन्होंने कहा कि इस दौरान हाईवे की स्थिति और व्यवस्थाओं को जानने का भी उन्हें मौका मिला. विधायक कर्णवाल ने कहा कि ऋषिकेश-बदरीनाथ और रुद्रप्रयाग-गौरीकुंड हाईवे पर हर दो से तीन किमी पर यात्री रेन शेड का निर्माण, पेयजल और शौचालय की व्यवस्था को लेकर वे प्रदेश सरकार को एक पत्र देंगे. साथ ही विधानसभा में भी इस बारे में प्रस्ताव रखेंगे.

उत्तराखंड में बेरोजगारी की समस्या दिनों दिन बढ़ रही है. इस समस्या से निजात पाने के लिए पहाड़ में रोजगारपरक योजनाओं का संचालन करना जरूरी है. उन्होंने कहा कि बीते पांच वर्षों में मोदी सरकार ने विश्वमंच पर देश को जो पहचान दी है. इसके लिए जरूरी है कि दुबारा मोदी देश के प्रधानमंत्री बनें. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तराखण्ड में आल वेदर सड़क की सौगात दी, जिस पर कार्य किया जा रहा है. आल वेदर कार्य के बाद राजमार्गों की स्थिति में बेहद सुधार आया है.

राजमार्ग का चौड़ीकरण होने से वाहनों के आवागमन में आसानी हो रही है. बड़े-बड़े बैंड खत्म कर दिये गये हैं. आल वेदर सड़क का लाभ तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को मिल रहा है. उन्होंने कहा कि बाइक से जाने का उद्देश्य यह है कि देश-विदेश से आने वाले तीर्थयात्रियों को संदेश देना है कि चारधाम यात्रा सुरक्षित है. बाइक से भी यात्री दूरस्थ शहरी इलाकों से यात्रा कर सकते हैं. इससे पर्यटन एवं तीर्थाटन को इससे बढ़ावा मिलेगा. उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा मार्ग पर अव्यवस्थाएं फैली हुई हैं. तीर्थयात्रियों को भारी परेशानियों से जूझना पड़ रहा है. यात्रा पड़ावों पर पानी, शौचालय की व्यवस्था नहीं है. तीर्थयात्री पड़ावों में पानी के लिए भटक रहे हैं, जबकि गंदगी से उन्हें दो-चार होना पड़ रहा है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।