आप यहां हैं : होम» राज्य

खाकी वर्दी की सच्चाई सामने लाने वालों के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jun 3 2019 2:43PM
police_201963144349.png

आगरा. खाकी पर दाग लगने वाले वीडियो लगातार वायरल हो रहे हैं. आगरा में पुलिस के तीन नए वीडियो वायरल हुए हैं. उनमें सबसे पहली तस्वीर खंदौली थाना के मुड़ी चौराहे के पास की है. जहां दारोगा जी अपने दो साथियों के साथ पहले जमकर शराब पीते हैं. फिर नशे में डूबे दरोगा जी लड़खड़ाते कदमों के साथ चले जाते हैं. खाकी वर्दी पहने दरोगा जी फतेहाबाद थाना में तैनात हैं, और अपने किसी रिश्तेदार के यहां आकर जमकर शराब पीते हैं. सवाल पूछने पर उल्टा रौब दिखाते हैं.

दूसरा वीडियो खंदौली थाने से चंद कदम की दूरी का है. जहां थाना हरीपर्वत चौराहे से कुछ दूरी पर सड़क के सहारे लगे ठेले पर खुले आम सिपाही शराब पी रहे हैं. यह जनाब भी खाकी की गरिमा को तार-तार करते नजर आ रहे हैं. इनको इस बात से कोई लेना देना नहीं है कि वर्दी में चलती रोड पर खुलेआम शराब पीने से जनता पर क्या असर पड़ेगा. बात यहीं खत्म नहीं होती.

तीसरी तस्वीर थाना मदन मोहन गेट की है. जहां पुलिस की दबंगई दिखाते तीन पुलिसकर्मी एक दूकान पर जबरन सामान ले रहे हैं. दुकानदार सामान देने से मना कर देता है तो तीनों पुलिसकर्मी हनक दिखाते हुए पहले दूकान बंद कराने की धमकी देते हैं, और फिर बाद में दूकान के काउंटर पर रखे सामान को फेंक देते हैं. लगातार तीन वीडियो वायरल होने के बाद भी पुलिस के अधिकारी अभी चुप्पी साधे हुए हैं. दो दिन पहले भी पुलिस का ऑटो चालकों को मुर्गा बनाने का वीडियो वायरल हुआ था.

ताजनगरी में आगरा में  खाकी पर लगातार दाग लगने वाले जो वीडियो वायरल हो रहे वह शर्मसार करने वाले हैं. पुलिस जो आम जनता को कानून का पाठ पढ़ाती और सिखाती है वही इन सबका खुद पालन नहीं करती, और सबको ठेंगा दिखाती हुई खाकी की गरिमा को  बदनाम कर रही है.

आगरा के इन बेअंदाज़ पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय इस वीडियो को वायरल करने वाले तीन पत्रकारों के खिलाफ आगरा के एसएसपी ने मुकदमा दर्ज करा दिया है. पत्रकारों पर वीडियो वायरल करने और पुलिस की छवि को बदनाम  करने के साथ-साथ सरकारी कामकाज में बाधा डालने जैसी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है, जब सच्चाई दिखाने वाले लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ के कलम वीरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो सकता है तो इन पुलिस वालों के खिलाफ भी मुकदमा पंजीकृत किया जाना चाहिए, जो वर्दी की गरिमा को तार तार कर खुलेआम सार्वजनकि स्थल पर शराब पीते नजर आतें हैं तो कहीं दबंगई करते हुए.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।