आप यहां हैं : होम» राज्य

चार साल से नहीं मिला है मदरसा टीचर्स का वेतन

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jun 15 2019 12:05PM
madarsa_201961512547.png

लखनऊ. मोदी सरकार के देश के मदरसों को मॉडर्न करने के एलान के बाद जहाँ एक तरफ सरकार की इस पहल का स्वागत हो रहा है तो वहीं दूसरी तरफ पिछले 38 महीनों से अपनी रुकी हुई तनख्वाह की मांग को लेकर दर बदर भटक रहे मदरसा टीचर्स का दर्द भी छलक आया है. यूपी मॉडर्न मदरसा टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष एजाज़ अहमद ने सरकार के इस एलान के बाद अपना बयान जारी करते हुए सरकार से अपनी रुकी हुई तनख्वाह देने की गुहार लगायी है.

यूपी मदरसा मार्डन टीचर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष एजाज अहमद ने मदरसों को मॉडर्न किए जाने के सरकार के ऐलान के बाद अपने दिए हुए बयान में अपना दर्द भी जाहिर किया. एजाज अहमद ने अपने बयान में कहा कि मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी का स्टेटमेंट है कि मदरसों को मॉडर्न किया जाएगा लेकिन भारत सरकार में मदरसा मॉडर्न टीचर की योजना में पहले से ही 50 हजार टीचर्स काम कर रहे हैं जो पूरी तरह ट्रेंड और क्वालिफाइड हैं लेकिन सरकार ने पिछले 4 साल से उनका मानदेय उनको नहीं दिया. जिससे वह भुखमरी की कगार पर हैं.

एजाज़ अहमद ने अपने बयान में कहा कि अब तक रुकी हुई तनख्वाह के कारण 19 टीचर आत्महत्या कर चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही.

गौरतलब है कि देश मे 50 हज़ार और उत्तर प्रदेश में 25 हज़ार मदरसा मॉडर्न टीचर्स पहले से मॉडर्न मदरसों में तमाम सब्जेक्ट पढ़ा रहे हैं लेकिन अपनी रुकी हुई तनख्वाह को लेकर मदरसा मॉडर्न टीचर पिछले काफी वक्त से दिल्ली से लेकर लखनऊ तक धरना प्रदर्शन करके सरकार से बराबर अपनी रुकी हुई तनख्वाह की मांग कर रहे हैं लेकिन अब तक इन मदरसा मॉडर्न टीचर्स को इनकी रुकी हुई तनख्वाह नहीं मिली है. अब सरकार का मदरसों को मॉडर्न करने के ऐलान के बाद से इन मदरसा मॉडर्न टीचर्स का भी दर्द छलक आया है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।