आप यहां हैं : होम» राज्य

काशी के विकास कार्यों और क़ानून व्यवस्था की सीएम योगी ने की समीक्षा

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jun 23 2019 6:48PM
CM Varanasi_2019623184832.png

वाराणसी. जनपद के विकास कार्यों और कानून व्यवस्था पर समीक्षा करने के लिए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी पहुंचे. मुख्यमंत्री ने यहाँ अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि वे जनप्रतिनिधियों और जनता से सीधे संवाद स्थापित करें. इससे बड़े से बड़े अपराध रोके जा सकते हैं. प्रतिदिन एक घंटे पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी जनता से मिलें. उन्होंने अपराध नियंत्रण पर विशेष जोर देते हुए कहा कि उनकी सरकार की ओर से प्रदेश में 45 हजार पुलिसकर्मियों की अतिरिक्त तैनाती की गई है. प्रत्येक थानों में 30 कांस्टेबल अतिरिक्त रूप से दिए गए हैं. ऐसे में अब मैन पावर की कोई कमी थानों में नहीं रह गई है. इस मैन पावर का नियोजित तरीके से सदुपयोग किए जाने पर उन्होंने विशेष जोर दिया.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेहतर पुलिसिंग काशी से शुरू किए जाने पर विशेष जोर देते हुए कहा कि कानून का राज हर हाल में स्थापित होना चाहिए. काशी लघु भारत है और यहां पर दुनिया भर से लोग आते हैं. सरकारी ज़मीनों पर अतिक्रमण को चिन्हित कर तत्काल उसे कराए जाने पर विशेष जोर दिया. यातायात व्यवस्था की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने अब तक की कार्रवाई पर संतोष व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि मल्टीलेवल पर बनाए जा रहे पार्किंग स्थलों को युद्धस्तर पर अभियान चलाकर पूरा कराएं.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने दो दिवसीय वाराणसी दौरे के प्रथम दिन कमिश्नरी ऑडिटोरियम सभागार में वाराणसी जिले के विकास एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा बैठक की. उन्होंने कानून व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए जाने पर विशेष जोर देते हुए निर्देशित किया कि एसएसपी रोजाना किसी न किसी एक थाने का निरीक्षण करें और थानों की गतिविधियों पर पैनी नजर रखें, ताकि थानों पर आने वाले जनसामान्य को समस्याओं के समाधान में किसी भी प्रकार की परेशानी न उठानी पड़े. मुख्यमंत्री ने कड़े निर्देश देते हुए कहा कि जो थानेदार जनता की समस्याओं के निस्तारण की कार्रवाई न करें अथवा पूर्वाग्रह से ग्रसित हों, ऐसे लोगों को किसी भी दशा में थानेदारी न दी जाए और उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए.

उन्होंने नकाबपोश बाईकरो की रोजाना जांच किए जाने का निर्देश दिया. अपराधियों पर नकेल कसने के लिए मुख्यमंत्री ने विशेष रूप से जोर देते हुए थानावार टॉपटेन अपराधियों की सूची तैयार कर अपराधियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई किए जाने का निर्देश दिया. उन्होंने अपराधियों के विरुद्ध पुलिस को फ्रंटफुट पर रह कर अपराध व अपराधियों के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने के कड़े निर्देश दिए. बेईमान व भ्रष्ट पुलिस कर्मियों की सूची तैयार कर उपलब्ध कराए जाने का निर्देश दिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे कर्मियों का भ्रष्टाचार से अर्जित सम्पत्ति जब्त की जाएगी और उन्हें सेवानिवृत्ति देते हुए सेवा से मुक्त किया जाएगा. इसके लिए उन्होंने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से साप्ताहिक समीक्षा किए जाने का भी निर्देश दिया. उन्होंने पुलिस की परंपरागत चली आ रही छवि से उबरने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि यह वर्तमान समय की मांग है और पुलिस को नया लुक होगा.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कमिश्नरी ऑडिटोरियम में विकास एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा से पूर्व काशी में कराए गए विकास कार्यों से संबंधित छायाचित्र के माध्यम से प्रस्तुत “मेरी काशी” एक पुरातन काशी नामक काफी टेबल बुक का विमोचन किया. कॉफी टेबल बुक के प्रथम पृष्ठ पर ही लिखा गया था कि "यूपी नहीं देखा तो इंडिया नहीं देखा". इस अवसर पर कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को श्री काशी विश्वनाथ मंदिर कारी डोर से संबंधित मॉडल भी भेंट किया.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बेहतर पुलिसिंग काशी से शुरू किए जाने पर विशेष जोर देते हुए कहा कि कानून का राज हर हालत में स्थापित होना चाहिए. काशी लघु भारत है और यहां पर दुनिया भर से लोग आते हैं. किसी की भी आशा एवं उम्मीद आहत नहीं होनी चाहिए. सरकारी ज़मीनों पर अतिक्रमण को चिन्हित कर तत्काल उसे कराए जाने पर विशेष जोर दिया. मुख्यमंत्री ने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि जेल सुधार गृह बन सकते हैं लेकिन अपराध संचालन का केन्द्र किसी भी दशा में नहीं बनाने चाहिए. उन्होंने जिलाधिकारी एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से जेलों का नियमित एवं और औचक निरीक्षण किए जाने का निर्देश दिया.

उन्होंने जेल की व्यवस्था को सुधारने के लिए बड़ा निर्णय लेते हुए कहा कि गैर जनपद की जिलों के जेलो का गैर जनपद के डीएम/एसपी से औचक निरीक्षण मंडल के कमिश्नर कराएं. जिलों में अब रैन बसेरे मात्र सर्दियों में नहीं बल्कि पूरे 12 माह संचालित होंगे. जिसमें सड़कों पर सोने वाले रिक्शा एवं ट्राली चालक सहित अन्य गरीब लोग रात बिता सकेंगे. रैन बसेरों में रहने वाले रिक्शा एवं ट्राली चालकों के वाहनों को सुरक्षित रखे जाने के लिए रैन बसेरों के पास पार्किंग स्थल निर्धारित किए जाने का भी निर्देश दिया.

यातायात व्यवस्था की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने काशी के लोगों को जाम से निजात दिलाए जाने जोर देते हुए अब तक की कार्रवाई पर संतोष व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि मल्टीलेवल बनाए जा रहे पार्किंग स्थलों को युद्धस्तर पर अभियान चलाकर पूरा कराएं. सड़कों पर लोक निर्माण विभाग द्वारा बनाए गए बेतरतीब स्पीड ब्रेकरों को व्यवस्थित तरीके से बनाए जाने पर उन्होंने विशेष जोर दिया.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।