आप यहां हैं : होम» राज्य

केदारनाथ में श्रद्धालुओं ने तोड़े पिछले सभी रिकार्ड

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jun 26 2019 3:47PM
kedarnath_2019626154734.jpg

रुद्रप्रयाग. केदारनाथ यात्रियों ने इस बार पिछले कई सालों का रिकार्ड तोड़ दिया है. डेढ़ महीने में अब तक साढ़े सात लाख से ज्यादा श्रद्धालु बाबा केदारनाथ के दर्शन कर चुके हैं. माना जा रहा है कि जब से पीएम मोदी ने केदारनाथ का दौरा किया है, तब से केदारनाथ आने वाले यात्रियों की संख्या में इजाफा हुआ है. अनुमान लगाया जा रहा है कि इस साल यात्रियों का आंकड़ा दस लाख के पार भी जा सकता है.

नौ मई को भगवान केदारनाथ के कपाट आम श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोले गये थे. जिसके बाद 18 मई को पीएम मोदी ने केदारनाथ का दौरा किया था. उन्होंने यहां पर रूद्रा गुफा में एक रात भी बिताई थी. पीएम मोदी के केदारनाथ आकर गुफा में ध्यान करने के बाद से श्रद्धालुओं का तांता सा लग गया है. पिछले साल 7 लाख 32 हजार 241 तीर्थयात्रियों ने भगवान केदारनाथ के दर्शन किये थे, जबकि इस साल अब तक 7 लाख पचास से ज्यादा श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं. जबकि अभी यात्रा में चार महीने का वक्त बाकी है.

तीर्थयात्रियों के आगमन से जहां राज्य सरकार को फायदा मिल रहा है, तो वहीं स्थानीय दुकानदारों को भी रोजगार मिल रहा है. जिससे स्थानीय लोगों के चेहरे खिले हुए हैं. यात्रियों की भारी संख्या को देखते हुए जिला प्रशासन ने भी तैयारियों को और पुख्ता किया है.

अनुमान लगाया जा रहा है कि इस वर्ष यात्रा का आंकड़ा दस लाख के पार भी जा सकता है. नौ मई को भगवान केदारनाथ के कपाट आम श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोले गये थे और 18 मई को देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी केदारपुरी पहुंचे. उन्होंने यहां पर एक रात रूद्रा गुफा में विश्राम किया. प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी के केदारनाथ आकर गुफा में ध्यान करने के बाद श्रद्धालुओं का तांता सा लग गया. यात्रियों के भारी संख्या में आने से मात्र 45 दिनों में ही वर्ष 2018 का रिकार्ड टूट गया.

केदारनाथ की यात्रा चार धामों में सबसे कठिन यात्रा है. 16 किमी का पैदल सफर तय करने के साथ ही यहां की भौगोलिक परिस्थिति काफी विकट है, जिस कारण भोले की यात्रा काफी कष्टदायक है. केदारनाथ यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं का आक्सीजन की भारी कमी से जूझना पड़ता है. पैदल चलने वाले तीर्थयात्रियों को 18 किमी का सफर तय करना पड़ता है, बावजूद इसके केदारनाथ में दर्शन करने वाले यात्रियों का रिकार्ड हर वर्ष बढ़ता जा रहा है.

केदारनाथ आपदा के बाद शुरूआती वर्षो में जहां यात्रियों की संख्या काफी कम रही, लेकिन वर्ष 2017 के बाद संख्या में भारी बढ़ोत्तरी होने लगी. पहली बार केदारनाथ के इतिहास में एक दिन दर्शन करने वाले यात्रियों की संख्या 36 हजार से अधिक पहुंची. आपदा से पूर्व केदारनाथ दर्शन करने वाले यात्रियों की संख्या बद्रीनाथ की तुलना में लगभग आधा रहती थी, लेकिन गत वर्ष से संख्या मे ज्यादा अंतर नहीं है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के केदारनाथ दर्शनों को लगातार आने के बाद से यात्रियों की संख्या में भारी बढ़ोत्तरी हो रही है.

जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि केदारनाथ यात्रा का आंकड़ा आसमान छू रहा है. पिछले वर्ष छह माह की यात्रा में सात लाख बत्तीस हजार तीर्थयात्रियों ने बाबा के दर्शन किये थे, मगर इस वर्ष यह आंकड़ा डेढ़ महीने की यात्रा में ही पूरा हो गया है. अभी भी धाम में पांच से सात हज़ार तीर्थयात्री रोजाना पहुंच रहे हैं. बरसाती सीजन खत्म होने के बाद अगस्त व सितम्बर माह में यात्रियों की संख्या फिर से बढ़ने लगेगी. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन यात्रियों को हरसंभव सहायता दे रहा है. यात्रा से रोजगार मिलने के साथ ही स्थानीय व्यापारियों को काफी फायदा हो रहा है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।