आप यहां हैं : होम» राज्य

MP वरुण गांधी ने क्यों की नव्या की तारीफ?, पढ़िए-नव्या के सक्सेज की पूरी कहानी

Reported by nationalvoice , Edited by shailendra-shukla , Last Updated: Sep 2 2016 7:59PM
sansad_201692195952.jpg

लखनऊ/सीतापुर: पीएम मोदी के 'मेक इन इंडिया' की तरफ बिना किसी सहयोग के एक बड़ा कदम उठानेवाली सीतापुर जिले की रहनेवाली नव्या की आज सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने जमकर तारीफ की। उन्होंने लखनऊ में युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि लोगों को नव्या से सीखने की जरूरत है। उन्होंने कहा नव्या ने जिस तरह से छोटी-छोटी चीजों के जरिए लोगों को आगे बढ़ाया वो किसी समाजसेवा से कम नहीं है। समाजसेवा सिर्फ अपना सबकुछ बेचकर करने से नहीं होती।

उन्होंने कहा कि नव्या ने IVEI (आय वैल्यू एव्री आइडिया) की शुरुआत की और इससे अपने आस-पास के 20 लोगों को जोड़ा। उन्हें बेसिक ट्रैनिंग दी और आज जो लोग 100 रुपए प्रतिदिन कमा रहे थे वो आज 1500 रुपए प्रतिदिन कमा रहे हैं। वरुण गांधी ने कहा कि नव्या से लोगों को सीखने की जरूरत है। नव्या से समाजसेवा करना सीखना चाहिए।

नव्या के बारे में:

नव्या IVEI की फाउंडर हैं। अपने स्लोगन आय वैल्यू एव्री आइडिया के साथ आगे बढ़ते हुए नव्या ने एक अच्छी-खासी ई-कॉमर्स कंपनी बना रखी है। हालांकि उनके पास कोई बड़ी चीजें नहीं बनती लेकिन जो हैं वो बिल्कुल मास्टर पीस हैं।

नव्या ने नेशनल वॉयस से अपने सक्सेज स्टोरी साझा की:

नव्या ने नेशनल वॉयस को दिए ऑनलाइन साक्षात्कार में अपनी सक्सेज स्टोरी साझा की। उन्होंने बताया कि वो अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद कुछ अलग करना चाहती थीं। इसमें उनके माता-पिता ने बखूबी साथ दिया। शादी के बाद उनके हमसफर ने भी उनका बखूबी साथ दिया।

(अपनी मां अंशु अग्रवाल के साथ नव्या काली टी-शर्ट में दायीं तरफ)

नव्या बताती हैं कि पहले तो कम लोग जुड़े लेकिन जब काम बढ़ा तो बहुत सारे लोगों ने साथ दिया। उनके मुताबिक काम में कठिनाई उस समय हुई जब अपने प्रोडक्ट्स के लिए उन्हें मार्किट ढूंढना पड़ा लेकिन उन्हें यहां पर भी जीत हासिल हुईं और IVEI का कारवां आगे बढ़ता गया।

जब नव्या से पूछा गया कि यदि को एक छोटा सा शैक्षणिक संस्थान खोलता है तो भी वह किसी से फंडिग की उम्मीद रखता है, क्या IVEI के लिए भी किसी ने फंडिंगी की? तो नव्या ने कहा कि किसी भी राजनेता या अन्य व्यक्ति ने फंडिंग नहीं की। उनके पिताजी ने उनके इस काम को आगे बढ़ाने के लिए उन्हें पैसे दिए।

लोगों को देखने के बाद आया विचार:

नव्या ने बताया कि उन्होंने देखा कि सीतापुर के लोगों में संभावनाएं हैं। लोगों का अनुभव और उनका डिजायन यदि मिल जाए तो बहुत कुछ किया जा सकता है। इसी के साथ शुरू हुआ IVEI का सफर।

हौसला बढ़ाते रहे और कुछ नहीं चाहिए:

जब नव्या से पूछा गया कि आप वरुण गांधी अथवा भारत सरकार से क्या उम्मीद रखती हैं खासकर वित्तीय मामलों को लेकर पर नव्या ने कहा कि जब आपको आपके द्वारा किए गए काम के लिए तारीफ मिलती है तो यह अच्छा अनुभव रहता है। खासकर वरुण गांधी जैसे माननीयों से। वो सिर्फ हौसला बढ़ाते रहें मुझे कुछ नहीं चाहिए।


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।