आप यहां हैं : होम» राज्य » उत्तराखंड » रुद्रप्रयाग

केदारनाथ यात्रा के लिए रास्तों से बर्फ हटाने का काम शुरू

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Mar 10 2019 12:41PM
kedarnath_2019310124138.jpeg
केदारनाथ में भारी बर्फबारी के बीच प्रशासन ने यात्रा की तैयारियां भी शुरू कर दी हैं. जिसके लिए प्रशासन ने केदारनाथ धाम में पैदल मार्ग पर पड़ी बर्फ को हटाना शुरू कर दिया है. ताकि सड़क मार्ग को आवागमन के लायक बनाया जा सके.

लगातार हो रही बर्फबारी से बढ़ी जनता की दुश्वारियां

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Feb 10 2019 8:12PM
rudrapryag_201921020122.jpg
केदारनाथ में बर्फबारी से हालात बिगड़ गए हैं. एक सप्ताह से विद्युत, पेयजल, संचार आदि की आपूर्ति ठप हो गई है. केदारनाथ में बर्फ को पिघलाकर पानी पिया जा रहा है. प्रसिद्ध पर्यटक स्थल चोपता में भारी हिमपात हुआ है. दो बजे के बाद चोपता जाने पर रोक लगा दी गई है.

बर्फबारी के बाद रास्तों पर फंसे 15 पर्यटकों को सुरक्षित निकाला गया

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Jan 24 2019 11:10AM
rudrpryaag_2019124111047.jpg
तीन दिनों से रुद्रप्रयाग के उच्च हिमालयी क्षेत्रों में हुई भारी बर्फवारी से मिनी स्विटजरलैंड कहे जाने वाले चोपता में फंसे 15 पर्यटकों को पुलिस प्रशासन की मदद सुरक्षित निकाला गया है. यह पर्यटक जयपुर, दिल्ली, नोएडा और गुडगाँव से चोपता घूमने आये थे, लेकिन लगातार हुई बर्फवारी के कारण सड़क बंद हो गयी. जिस कारण पर्यटक फंसे रहे. पर्यटकों को निकालने के लिए आपदा प्रबंधन एवं पुलिस की टीम मौके पर रवाना हुई, और पर्यटकों को सकुशल सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया दिया गया.

केदारघाटी में जश्न का माहौल

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Nov 26 2018 4:10PM
Madhmeshwar_bhagwan_20181126161019.JPG
द्वितीय केदार के नाम से विश्वविख्यात मद्दमहेश्वर भगवान आज से उखीमठ के ओंकारेश्वर मंदिर में केदार बाबा के साथ पूरे शीलकाल में अपने भक्तों को दर्शन देंगे. पौराणिक काल से ही भगवान मद्दमहेश्वर द्वितीय केदार के साथ ही देवताओं और केदारघाटी के लोगों के लिए एक न्यायाधीश भी हैं. ऐसे में भगवान मद्दमहेश्वर के ओंकारेश्वर मंदिर में विराजते ही पूरी केदारघाटी में जश्न का माहौल रहता है.

पुत्र की शादी में बाबा केदार को आमंत्रित करने केदारनाथ पहुंचे मुकेश अम्बानी

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Nov 5 2018 4:53PM
mukesh ambani_2018115165334.jpg
पुत्र की शादी में बाबा केदार को आमंत्रित करने के लिए प्रसिद्ध उद्योगपति मुकेश अंबानी सोमवार को केदारनाथ पहुंचे. इस दौरान उन्होंने लगभग आधा घंटे तक बाबा केदार की विशेष पूजा-अर्चना की. साथ ही उन्होंने अपने पुत्र आनंद अंबानी की शादी का कार्ड बाबा केदार के दरबार में दिया. इस मौके पर मुकेश अंबानी ने बद्रीनाथ और केदारनाथ में पूजा-सामग्री के लिये एक करोड़ रुपये की धनराशि और एक इनोवा कार भी भेंट की.

रिकार्डतोड़ बर्फबारी से बर्फ से ढक गया केदारनाथ

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Nov 5 2018 11:26AM
snowfall_2018115112627.jpeg
केदारनाथ में रिकार्डतोड़ बर्फबारी हुई है. तीर्थ यात्री जहां बर्फ का आनंद ले रहे हैं, वहीं केदारनाथ धाम में रह रहे पुलिस, एसडीआरएफ और नेहरू पर्वता रोहण संस्थान के जवान अपने आप को बर्फ में ढालने की कोशिश कर रहे हैं. पुलिस के जवान बर्फ में रेंग कर चल रहे हैं. वहीं केदारनाथ धाम में एमआई - 26 हेलीपैड का कुछ पता ही नहीं चल पा रहा है. बर्फ के ऊपर ही हेलीकाप्टर लैंड कर रहा है.

पहाड़ों पर भी सुनाई देगी रेल इंजन की आवाज़

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Sep 14 2018 6:52PM
rly_2018914185212.jpg
कुछ सालों में पहाड़ में भी रेल के इंजन की आवाजें सुनाई देंगी. पहाड़ में रेल पहुंचाने के लिये उत्तर रेलवे ने भी अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं. वहीं इससे पहाड़वासियों की परेशानियां भी बढ़ गई हैं. ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन में रुद्रप्रयाग जिला भी खासा प्रभावित हो रहा है. जिले के दस ऐसे गांव हैं जो सर्वाधिक प्रभावित हो रहे हैं.

138 साल बाद मिली आरती की मूल पांडुलिपि

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Aug 20 2018 4:20PM
Badri-Kedar_2018820162058.jpg
जनपद के स्यूपुरी गांव निवासी तत्कालीन मालगुजार ठाकुर स्वर्गीय धन सिंह बर्तवाल द्वारा लिखित बद्रीनाथ धाम की आरती को श्री बद्री-केदार मंदिर समिति ने अंगीकृत कर दिया है. 137 वर्ष बाद आखिरकार भगवान बद्री नारायण की आरती की मूल पाण्डुलिपियां भगवान के भण्डार में पहुंच गयी हैं. साथ ही आरती को लेकर पूर्व में चल रहे विरोधाभास पर भी विराम लग गया है.

बिजली के खुले तारों से मुक्त हो जाएगा रुद्रप्रयाग

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Aug 18 2018 7:13PM
khule tar_201881819132.jpeg
जनपद जल्दी ही बिजली के खुले तारों से मुक्त हो जायेगा. इसके लिए ऊर्जा निगम ने पायलेट प्रोजेक्ट के तहत जिला मुख्यालय पर काम शुरु कर दिया है. वहीं अब जिले में लो वोल्टेज की समस्या भी समाप्त हो जायेगी. एरियल बंच केबलों के जरिये अब मुख्यालय पर बिजली की सप्लाई होगी और खुली लाइनें हटा दी जायेंगी. जिससे खुली लाइनों के जरिये होने वाले हादसों पर भी रोक लगेगी.

रेत नींव पर खड़ा हो रहा है रुद्रप्रयाग का महाविद्यालय

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Jul 26 2018 3:43PM
rudrpryag_2018726154342.jpg
जिले में विकास कार्यों की कैसी खोखली नींव रखी जा रही है इसका एक बड़ा उदाहरण फिर सामने आया है. जी हाँ, मामला है रुद्रप्रयाग महाविद्यालय का. राजकीय महाविद्यालय रुद्रप्रयाग अपने स्थापना काल से ही भारी अव्यवस्थाओं से जूझ रहा है.

मौसम बदला तो नासूर बन गई निर्माणाधीन आल वेदर रोड

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Jul 21 2018 3:06PM
all wether road_20187211563.JPG
केदारघाटी की लाइफ लाइन कही जाने वाली रुद्रप्रयाग-गौरीकुण्ड सड़क आल वेदर निर्माण के कारण अब नासूर बनती जा रही है. बेतरतीब तरीके से चल रहे पहाड़ कटान से पूरे मार्ग पर पांच बड़े सक्रिय स्लाइडिंग जोन तैयार हो चुके हैं. राहगीर जान को हथेली पर रखकर इन स्थानों पर आवागमन को मजबूर हैं, तो इन स्थानों पर बार-बार भारी मलबा आने से राजमार्ग घण्टों बाधित भी हो रहा है.

महिलाओं का आत्मविश्वास बढ़ाने वाली रामलीला

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Jun 20 2018 3:38PM
ramleela_2018620153839.jpg
महिलाओं में आत्मविश्वास बढ़ाने और उन्हें सशक्त बनाने के मकसद से रूद्रप्रयाग के कई गांवों में इन दिनों रामलीलाओं का मंचन किया जा रहा है. जिसमें महिला किरदारों को सम्मिलित किया गया है. महिलाओं की रामलीला देखने के लिए दर्शकों की भारी भीड़ उमड़ रही है.

इस आवासीय इलाके पर मंडरा रहा है बड़ी आपदा का खतरा

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Jun 20 2018 3:11PM
rudrapryag_201862015114.jpg
नगर पालिका इलाके से सटी ग्राम पंचायत लोली का भण्डारी तोक अब खतरे की जद में आ गया है. यहां पर आवासीय भवनों के उपर कभी भी आपदा के पत्थर बरस सकते हैं. कई परिवारों का अस्तित्व संकट में है, लेकिन विभाग अभी किसी अनहोनी के इंतजार में बैठा है.

रुद्रप्रयाग के लिए कहर भी बन सकती है यह पार्किंग

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: Jun 13 2018 2:22PM
rudrapryag_201861314225.jpg
बरसात का मौसम शुरू हो चुका है. ऐसे में रुद्रप्रयाग के आधे शहर पर खतरे के बादल मंडराने लगे हैं. पर्यटन विभाग की प्रसाद योजना के तहत बन रहे पुनाड़ गदेरे के ऊपर पार्किंग निर्माण से पूरा गदेरा अवरुद्ध हो गया है. यह आधे शहर पर कहर बनकर टूट सकता है.

कभी भी बड़े हादसे का सबब बन सकता है यह पुल

Reported by nationalvoice, Edited by shabahat.vijeta, Last Updated: May 12 2018 2:18PM
bridge_2018512141818.gif
गौरीकुंड राष्ट्रीय राजमार्ग और चोपता-पोखरी मोटरमार्ग को जोड़ने वाला स्टील गाडर पुल कभी भी बड़े हादसे का सबब बन सकता है. लगभग 1960 के दशक में बना यह पुल अब भारी वाहनों के आवागमन से लड़खड़ाने लगा है. राजमार्ग विभाग इस दिशा में मौन बना है तो सुरक्षा के लिहाज से पुलिस प्रशासन द्वारा जवानों की तैनाती की गई है, और किसी तरह वाहनों का संचालन करवाया जा रहा है.
Total 81 records | Page: 1 of 6       Next >     Last >>