आप यहां हैं : होम» राज्य

डीज़ल के बर्तन में बनी शराब ने ले ली गरीबों की जान

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Feb 11 2019 12:16PM
Roorkee_201921112164.jpg

रुड़की. 70 रुपये की शराब की बोतल ने ली गरीबों की जान और बर्बाद कर दिए बहुत से परिवार. जी हाँ, जहरीली शराब पीने के कारण हुई मौतों के मामले में सामने आया है कि इस जहरीली शराब को सप्लाई करने वाले सोनू ने यह शराब घर में ही शराब की भट्टी चलाने वाले सरदार हरदेव सिंह से 70 रुपये बोतल के हिसाब से खरीदी थी और 90 रुपये के बोतल के हिसाब से बेची थी.

बताया जाता है कि यह शराब डीजल के एक बर्तन में बनाई गई थी. जिसकी वजह से शराब का रंग काला पड़ गया था, तो उसमें दूध मिला दिया गया. शराब में से डीजल की बदबू भी आ रही थी. इसके बावजूद सरदार हरदेव सिंह ने शराब को सप्लाई करने के लिए दे दी. अभी तक ऐसा लगता है कि सरदार हरदेव सिंह ही जहरीली शराब काण्ड का मुख्य आरोपित हो सकता है क्योंकि अभी हरदेव सिंह गिरफ्तार नहीं हो पाया है. उसकी गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में ही सभी बातें खुलकर सामने आ सकती हैं.

जहरीली शराब काण्ड में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड पुलिस ने ज्वाइंट ऑपरेशन चलाकर जहरीली शराब को सप्लाई करने वाले मुख्य दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है. दोनों आरोपित आपस में बाप बेटा हैं और काफी समय से शराब सप्लाई का कार्य करते आ रहे हैं. अवैध शराब की सप्लाई करने और बनाने में यह दोनों पहले भी जेल जा चुके हैं. पूछताछ में इन्होंने पुलिस को बताया कि यह जहरीली शराब दूधिया रंग की थी और सरदार हरदेव सिंह नाम के एक व्यक्ति से ली थी.

उत्तर प्रदेश के गागलहेड़ी थाना क्षेत्र के गाँव पुंडेन निवासी सरदार हरदेव के घर में ही शराब बनाने की भट्टी है. फिलहाल पुलिस हरदेव की तलाश कर रही है. पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी है कि सोनू और फकीरा ने पुलिस को बताया कि सोनू 5 फरवरी को सरदार हरदेव सिंह के घर से 35 बोतल शराब पाउचों में लेकर आया था. घर आकर देखा तो शराब सफ़ेद रंग की थी और कुछ अजीब सी लग रही थी. जिसके बाद सोनू ने सरदार हरदेव सिंह फोन पर शराब से बदबू आने की बात बताई तो उसने डीजल के बर्तन में शराब बनाने और रंग काला पड़ने पर दूध डालने की बात बताते हुए कहा की अगर तू निकाल सकता है तो निकाल दे.

जिसके बाद सोनू ने शराब को अलग-अलग गाँव के लोगों को बेच दिया. सोनू ने बताया की जिन लोगों की मौत हुई है वो इसी दूधिया शराब को पीने से हुई है क्योंकि धीर सिंह नाम के एक व्यक्ति ने मेरे सामने ही दूधिया शराब पी थी और वह मर गया है. चंद्रभान ने भी यही शराब पी थी वह भी मर गया है. उसके बाद मुझे पता चला कि जिसने भी दूधिया शराब पी वह मर रहे हैं. तो मैं डर गया और घर से भाग गया था.

पुलिस ने सोनू और फकीरा की निशानदेही पर जहरीली शराब की खाली बोतलें और पाउच उसके घर से बरामद कर लिए हैं. सरदार हरदेव सिंह के घर में बनी शराब की भट्टी को नष्ट कर दिया गया है. सरदार हरदेव सिंह अभी भी फरार है. जिसकी पुलिस तलाश कर रही है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।