आप यहां हैं : होम» राज्य

बदायूं में गहराया खाद का संकट

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jan 12 2019 2:50PM
khad_2019112145039.JPG

बदायूं. जिले में खाद की किल्लत दूर होने का नाम नहीं ले रही है. सुबह होते ही मंडी समिति के पास इफको के खाद सेंटर पर लंबी-लंबी लाइनें लग जाती हैं. खाद लेने के लिए पुरुषों के साथ साथ महिलाएं भी लाइनों में सुबह होते ही लगने को मजबूर हैं. उल्लेखनीय है कि बदायूँ में लगभग 3 करोड़ का खाद घोटाला हुआ था, खाद घोटाले की वजह से और इफको द्वारा लगभग 8 दिन तक खाद न दिए जाने के कारण यह संकट उत्पन्न हुआ है.

बदायूँ में हुए खाद घोटाले के बाद अब इसका असर जिले के किसानों पर दिखने लगा है. इन दिनों गेहूँ की फसल में लगाने के लिये  किसान को यूरिया की ज़रूरत है, जिसके लिये किसान सुबह से ही सेंटर पर लम्बी-लम्बी लाइनें लगा कर खड़े हो जाते हैं. कई बार तो पूरा दिन खड़े रहने पर भी खाद नहीं मिल पा रही है. इन लाइनों में महिलाएं भी छोटे बच्चो के साथ खाद लेने के लिये खड़ी हो रही है. किसानों के मुताबिक कई कई दिन लाइन में खड़े होने के बाद भी खाद नहीं मिल पा रही है.

वहीं खाद की उपलब्धता के बारे में ए आर कोऑपरेटिव ने कहा कि इफको के प्लांट से 8 हजार बोरी प्रतिदिन खाद उपलव्ध करवाने का अनुरोध किया गया है. 8 हजार बोरी प्रतिदिन मिलने से किल्लत खत्म हो जायेगी. चूंकि गेहूँ की फसल ज्यादा है इस वजह से खाद की डिमांड भी ज्यादा है.

खाद घोटाले की वजह से इफको ने पहली जनवरी से खाद देना बंद कर दिया था और इफको चाहता था कि खाद की सुरक्षा की पूरी गारंटी ली जाये. ए आर कोऑपरेटिव और पीसीएफ के जिला प्रबंधक द्वारा पूरी गारंटी ली गई है कि किसानों को खाद पूरी पारदर्शिता के साथ दी जायेगी, जिससे अब खाद का संकट जिले में खत्म हो जायेगा.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।