आप यहां हैं : होम» राज्य

भीड़ ने हमला किया तो दरोगा ने गोली चला दी

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: May 15 2019 2:20PM
Lucknow_2019515142035.png

लखनऊ. राजधानी पुलिस की बड़ी लापरवाही सामने आई है. भीड़ से बचने के लिए दरोगा ने गोलियां चलाईं. दरोगा के हमले में तीन लोग घायल हुए हैं. रोड लाइट को लेकर दरोगा से विवाद हुआ था. इस विवाद के बाद स्थानीय लोगों ने दरोगा पर हमला कर दिया. भीड़ से बचने के लिए दरोगा ने ताबड़तोड़ गोलियां चलाईं. बताया जाता है कि गोली चलाने वाला यह दरोगा प्रतापगढ़ कोतवाली में तैनात है.

लखनऊ की कानून व्यवस्था संभाल रहे पुलिस कर्मियों की लापरवाही का नतीजा बीती रात मड़ियांव थाना क्षेत्र के सिवमरा गौरी इलाके में देखने को मिला. जहां प्रतापगढ़ में तैनात अमित कुमार नाम के दरोगा ने भीड़ की पिटाई से बचने के लिए अपनी सर्विस रिवाल्वर से गोली चला दी. इस घटना में ज्योति नाम की युवती सहित अजय कुमार यादव और शब्बीर भी घायल हो गए. दरोगा की चलाई गोली जहाँ शब्बीर के हाथ मे लगी तो वहीं अजय और ज्योति भी मामूली रूप से घायल हो गए. फिलहाल मड़ियांव पुलिस ने दरोगा को हिरासत में लेकर सर्विस रिवाल्वर को जब्त कर लिया है. घायलों को इलाज के लिए राम मनोहर लोहिया अस्पताल भेज दिया है.

मामला यूपी की राजधानी लखनऊ के मड़ियांव में स्थित सिमरा गौरी इलाके का है. जहां स्थानीय पुलिस की लापरवाही का खामियाजा एक दरोगा और एक युवती सहित 2 अन्य लोगों को भुगतना पड़ गया.  दरअसल मड़ियांव इलाके के सिमरा गौरी क्षेत्र में अमित कुमार नाम का एक दरोगा रहता है, जो प्रतापगढ़ के सदर कोतवाली में तैनात है. मोहल्ले के लोगों से दरोगा की माँ से एक स्ट्रीट लाइट को लेकर मंगलवार को विवाद हो गया. जिसके बाद पीड़ित पक्ष और दरोगा की माँ ने मड़ियांव थाने में तहरीर दी, लेकिन इलाके के लोगों ने दरोगा पर हमला बोल दिया. दरोगा ने भीड़ से बचने के लिए अपनी सर्विस रिवाल्वर से गोली चला दी जो शब्बीर नाम के व्यक्ति के हाथ में लगी. वहीं मौके पर मौजूद ज्योति और अजय भी घायल हो गए. घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मैके पर पहुँची और दरोगा को हिरासत में लेने के साथ सर्विस रिवाल्वर ज़ब्त कर ली और घायलों को अस्पताल भेज दिया.

वहीं अगर पीड़ित पक्ष की मानें तो इस पूरे मामले में दरोगा अपनी वर्दी का नशे में चूर होने के कारण रौब झाड़ता घूमता है. पीड़ित ज्योति का कहना है कि रोड लाइट को लेकर विवाद हुआ था जिसके बाद दरोगा ने शाम को भी रिवॉल्वर तान दिया गया जिसकी शिकायत थाने में भी की गई थी, लेकिन बिठौली चौकी इंचार्ज ने मामले को रफा दफा कर दिया और देर रात दरोगा ने गोली चला दी.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।