आप यहां हैं : होम» धर्म-कर्म

माँ के दरबार में उमड़ने लगा है भक्तों का मेला

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jun 24 2019 6:37PM
kaushambi_2019624183734.jpg

कौशाम्बी. इक्यावन शक्तिपीठों में से एक माँ शीतलाधाम में आषाढ़ मेले की शुरुआत हो गई है. शनिवार से शुरू हुआ सात दिवसीय आषाढ़ मेला शुक्रवार तक चलेगा. इस दौरान पूर्वांचल के दर्जनों जिलों से हजारों भक्त माँ के दरबार में हाजरी लगाने पहुंचने लगे हैं. माँ के दरबार पहुंचे श्रद्धालु विशेष रूप से हलुवा-पूड़ी का प्रसाद चढ़ा कर पूजन करते हैं.

शक्तिपीठ माँ शीतलाधाम में हर वर्ष आषाढ़ महीने की सप्तमी-अष्टमी को विशेष मेला लगता है. सात दिवसीय इस मेले में पूर्वांचल के सभी जिलों के अलावा देश के विभिन्न प्रान्तों से श्रद्धालु माँ के दर्शन पूजन के लिए आते हैं. मान्यता है कि माँ के दरबार में जो श्रद्धालु बसियौरा (रात्रि में बनाया गया पूड़ी-हलुवा) श्रद्धा के साथ चढ़ाता है उसकी सभी मनोकामना पूरी होती है. शक्तिपीठ माँ शीतला देवी को पुत्र देने वाली देवी भी कहा जाता है. जो भक्त शीतल कुंड को जल, दूध, फल व मेवे से भरवाता है उसे मनोवांछित फल मिलता है.

माँ के दर्शन करने बलिया से आये शरद पांडेय का कहना है कि वह अपने सभी काम छोड़कर माँ के दर्शन करने अपने पूरे परिवार के साथ आषाढ़ महीने में जरूर आते हैं. इससे उन्हें व उनके परिवार को मन की शांति के साथ सभी मनोकामनाएं फलीभूत होती हैं. वाराणसी से माँ के दर्शन करने पहुंची कांति वर्मा का कहना है कि माँ के दर्शन मात्र से सारे कष्ट दूर हो जाते हैं. शक्तिपीठ शीतलाधाम के तीर्थ पुरोहित पंडित राम किंकर पंडा बताते हैं कि देवी सती का दाहिना कर (पंजा) यहां गिरा था, जो आज भी कुंड में विराजमान है. कुंड से हमेशा शीतल जल निकलता रहता है. इसी शीतल जल को ग्रहण करने से माँ के भक्तों के सभी दुख दूर हो जाते हैं.

शीतला माँ के दर्शन करने वाले भक्तों के अंदर श्रद्धा व आस्था इतनी अधिक भरी हुई है कि वह सैकड़ों किलोमीटर पैदल यात्रा करते हुए अपने कंधे पर पालना व निशान रखकर शीतलाधाम पहुंचते हैं. सैकड़ों किमी पैदल यात्रा कर सप्तमी की शाम माँ के धाम पहुँचने वाले श्रद्धालु अष्टमी की सुबह मंदिर में पालना व निशान चढ़ाते हैं. धाम में लगे आषाढ़ मेले में श्रद्धालुओं को सुरक्षा के लिहाज से कोई दिक्कत न हो इसके पुख्ता इंतजाम किए गए हैं.

जिले की पुलिस बल के अलावा प्रयागराज, प्रतापगढ़ व फतेहपुर जनपद से भी पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है. मेले में चप्पे चप्पे पर पुलिस बल तैनात करने के लिए तीन निरीक्षक, 22 उप निरीक्षक, 2 महिला उप निरीक्षक, 15 हेड कांस्टेबल, 100 कांस्टेबल, 15 महिला सिपाही, दो ट्रैफिक उप निरीक्षक के अलावा पीएसी बल को भी लगाया गया है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।