आप यहां हैं : होम» अपराध

ज़मीन पर कब्ज़े के लिए भू माफियाओं ने किया गाँव वालों पर हमला

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Oct 12 2018 4:10PM
kakori_20181012161036.jpeg

लखनऊ. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार जहां एक तरफ भू-माफियाओं के खिलाफ अभियान छेड़े हुए है वहीं दूसरी तरफ भू-माफियाओं द्वारा जमीनों पर कब्जा करने के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं.

ताजा मामला लखनऊ के थाना काकोरी इलाके के कलन खेड़ा गांव का है जहाँ आज सुबह से ही दबंग भूमाफिया मनीष गाँव में अपने साथियों के साथ पार्टी मना रहा था. अचानक शाम होते ही दबंग भूमाफिया अपने लगभग 50 साथियों के साथ असलहा लेकर कलन खेड़ा गांव की ग्राम समाज की जमीन पर कब्जा करने पहुंच गया. गाँव की ज़मीन पर जबरन कब्ज़ा होते देख गांव के लोगों ने इसका विरोध किया, लेकिन दबंग ने किसी की नहीं सुनी और गांव के लोगों पर असलहे और लाठी डंडों से लैस साथियों ने गांव वालों पर हमला बोल दिया, और गांव के लोगों की बुरी तरह पिटाई कर दी. जिसके कारण गाँव के करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए. जिनमें अपने घर वालों को बचाने आई महिलायें भी शामिल हैं.

लोगों ने हमले की जानकारी पुलिस को दी लेकिन काकोरी थाने की पुलिस मौके पर नहीं पहुंची. किसी तरह गांव वालों ने घायलों को अस्पताल मे भर्ती कराया. जहाँ सभी का इलाज चल रहा है. जानकारी के अनुसार लखनऊ के थाना काकोरी इलाके में उस वक्त हड़कप मच गया जब दबंग भूमाफिया गाँव में खाली पड़ी ग्राम समाज की जमीन पर अपने साथियो के साथ कब्ज़ा करने पंहुचा.

कब्ज़ा होते देख गांव के लोगों ने इसका विरोध किया. जिसके कारण हथियारों से लैस बदमाशों ने गांव के लोगों पर हमला बोल दिया. जिसमें करीब एक दर्जन लोग घायल हो गए. जिन्हें गांव वालों ने अस्पताल मे भर्ती कराया है. जहाँ कई लोगों की हालत ख़राब बनी हुई है. घायल युवक की मानें तो जिस वक्त मनीष नामक युवक अपने साथियों के साथ जमीन पर कब्जा कर रहा था उस समय ग्रामीणों ने स्थानीय पुलिस को सूचना दी. लेकिन सूचना मिलने के बावजूद पुलिस नदारद रही. जिसका फायदा उठाकर भू-माफिया मनीष ने ग्रामीणों को बेरहमी से पीटा जिसमें कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए. घायलों के अस्पताल में भर्ती होने पर बलरामपुर अस्पताल घायलों को देखने एक पीआरवी और वजीरगंज पुलिस पहुंची, लेकिन काकोरी पुलिस नदारद रही. जिस पर ग्रामीणों का आरोप है कि ग्राम समाज की जमीन पर पुलिस की सह पर ही कब्जा किया जा रहा है । अब देखने वाली बात यह है कि जिस तरह से दलितों पर अत्याचार बढ़ रहा है इस पर सरकार किया एक्शन लेती है । वहीं देखा जाए तो आला अफसर लगातार पुलिस की धूमिल छवि को सुधारने में जुटे हैं लेकिन वहीं उन्हीं के कुछ मातहत इस मुहिम को ठेंगा दिखाते नजर आ रहे हैं.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।