आप यहां हैं : होम» राज्य

SIT ने किया बहुचर्चित एडवोकेट हत्याकाण्ड का हुआ खुलासा

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: May 12 2019 3:53PM
uttarakhand-high-court_2019512155345.jpg

देहरादून. कोटद्वार का बहुचर्चित रघुवंशी हत्याकांड का हाईकोर्ट के आदेश पर आज एसआईटी ने आखिरकार खुलासा कर दिया. एसआईटी ने कोतवाली कोटद्वार में प्रेसवार्ता कर इस पूरे काण्ड की जानकारी दी.

पुलिस कप्तान पौडी कुंवर सिंह कुंवर ने प्रेस से कहा कि 13 सितंबर 2017 की सुबह को एडवोकेट रघुवंशी की कोर्ट जाते समय घर के बाहर अज्ञात हमलावरों द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. जिसमें आज 3 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. यह मामला उस समय प्रदेश भर में सुर्खियां बन कर गूंजा था. जिसके बाद कोटद्वार बार एसोसियेशन और कुछ सामाजिक संगठनों द्वारा तहसील परिसर में 273 दिन से लगातार धरना दिया जा रहा था. साथ ही मृतक वकील के परिजनों द्वारा नैनीताल हाईकोर्ट में सीबीआई जांच के लिए अपील भी दायर की गई. जिस पर हाईकोर्ट ने पुलिस को कड़ी फटकार लगाते हुए उतराखंड सरकार को एसआईटी गठन का निर्देश दिया. जिसके बाद एसआईटी का गठन हुआ और उसने हत्याकांड के सभी पहलुओं पर विचार करते हुए आज कोटद्वार के चर्चित प्रापर्टी डीलर विनोद गर्ग उर्फ विनोद लाला उसके गुर्गे सर्वेश्वर प्रसाद उर्फ डब्बू पर अपराधी सुरेंद्र नेगी को भारतीय दण्ड संहिता धारा 302 और 120 (बी) गिरफ्तार कर लिया गया.

पुलिस कप्तान द्वारा बताया गया कि उनके द्वारा तीन पेशेवर अपराधियों से एडवोकेट रघुवंशी की हत्या कराई गई थी. जिसमें एक अपराधी अभी जेल में बंद हैं और बाकी अपराधी फरार चल रहे हैं. जिन्हें कि जल्द गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा. पुलिस कप्तान का कहना था कि हत्या के पीछे  मुख्य वजह कोटद्वार भाबर सहित अन्य जगहों में एससी-एसटी की जमीनों की खरीद फरोख्त थी. जिसको लेकर एडवोकेट रघुवंशी द्वारा कई आपत्तियां दर्ज कराई गई थीं. जिससे परेशान होकर के विनोद लाला द्वारा एडवोकेट को रास्ते से हटाने के लिए उसकी हत्या कराई गई. वहीं धरने पर बैठी हुई पत्नी ने एसआईटी जांच और अपराधियों की गिरफ्तारी संतोष जताया और पुलिस को धन्यवाद दिया.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।