आप यहां हैं : होम» राज्य

एमबीबीएस की पढ़ाई का इंतज़ार हुआ ख़त्म

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jun 11 2019 4:56PM
Badayun_201961116565.png

बदायूं. एमबीबीएस की पढ़ाई का इंतज़ार अब ख़त्म होता दिखाई दे रहा है. जिले में अब अगस्त से MBBS की क्लासेज़ शुरू हो जाएंगी. बीते कई सालों से लटकी हुई कॉलेज की मान्यता को अब एमसीआई और स्वास्थ्य मंत्रालय से मंजूरी मिल गयी है. जहां आगामी पहली अगस्त से 100 सीटों पर पढ़ाई शुरू कर दी जाएगी. इन सीटों में 60 सीटें पुरूष और 40 सीटें महिलाओं के लिए रखी गयी है.

राजकीय मेडिकल कॉलेज को मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया की मान्यता मिलने के बाद से कॉलेज प्रशासन में खुशी की लहर देखने को मिल रही है. इस राजकीय मेडिकल कॉलेज की नींव साल 2014 में रखी गयी थी. जिसका शिलान्यास तत्कालीन सीएम अखिलेश यादव ने किया था.

बदायूं के राजकीय मेडिकल कॉलेज को मेडिकल काउंसिल ऑफ़ इंडिया की मान्यता मिलते ही कॉलेज प्रशासन में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है. कॉलेज प्रशासन इसके लिए विगत दो वर्ष से इंतज़ार कर रहा था जिसके लिए उसने सभी तैयारियां भी पूरी कर ली थीं. यहां ओपीडी के साथ इमरजेंसी सुविधाएं भी चालू हैं. कुछ बिंदुओं को लेकर एमसीआई इसकी मान्यता देने में आना-कानी कर रहा था. आठ बार एमसीआई की टीम भी यहां का दौरा कर चुकी थी. कॉलेज प्रशासन ने एमसीआई द्वारा लगाईं गई आपत्तियों पर काम पूरा कराकर उन्हें दूर किया गया, जिसके बाद कॉलेज को मान्यता दी गई और 100 एमबीबीएस की सीटें यहां आवंटित होने बाद कॉलेज प्रशासन ने पढ़ाई की तैयारी शुरू कर दी है.

बदायूं में मेडिकल की पढाई शरू होने के बाद और अच्छे डॉक्टरों की तैनाती के बाद बदायूं के मरीजों को दूर नहीं जाना होगा और यहाँ पर गंभीर बीमारियों का भी इलाज अब मिलने लगेगा. बदायूं के लोग अपना इलाज कराने बरेली, लखनऊ, दिल्ली जाते हैं लेकिन इस मेडिकल कॉलेज के शुरू होने से आसपास के जनपद के लोग अब यहाँ आकार इलाज करा सकेंगे. मान्यता मिलने के बाद डीएम बदायूं मेडिकल कॉलेज पहुंचे और कॉलेज के प्रिंसिपल को धन्यवाद दिया. जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने इसका श्रेय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दिया.

मेडिकल कॉलेज के प्रिंसीपल डॉ. आर पी सिंह का कहना है इस मेडिकल कॉलेज की OPD में अभी 2000 से 2500 हजार मरीज रोजाना देखे जा रहे हैं. जो MCI के मानक हैं उसमें हमने 300 बेड का अस्पताल 4 बड़े OT, दो मायनर OT, 5 तरह के ICU, OPD इनकी तैयारी पूरी कर ली है. छात्रों के लिए होस्टल भी बनकर तैयार हो गए हैं. सभी तरह की जांचों की भी सुविधा दी जा रही है, अब तक यहाँ पर 2 लाख मरीज OPD में देखे जा चुके हैं.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।