आप यहां हैं : होम» अपराध

गैंगरेप पीड़िता ने खाया ज़हर, लखनऊ रेफर

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Mar 15 2019 12:22PM
sitapur_2019315122214.png

सीतापुर. दबंग शोहदों ने नाबालिग किशोरी का अपहरण कर उसके साथ गैंगरेप किया और उसे मरणासन्न छोड़कर फरार हो गए. इतनी गंभीर घटना में आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई के बजाय पुलिस समझौते का दबाव बनाने में जुट गई. इसके नतीजे में गैंगरेप पीड़िता ने ज़हर खा लिया. उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन उसकी हालत को गंभीर देखते हुए डाक्टरों ने उसे लखनऊ के ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया है.

जिले की पुलिस की कार्यप्रणाली एक बार फिर सवालों के घेरे में है. पिसावां थाना क्षेत्र में मंगलवार की रात गांव के बाहर होली परिक्रमा का मेला देखने गयी एक नाबालिग का शोहदों ने अपहरण कर गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया, और नाबालिग को मरणासन्न हालत में छोड़कर मौके से फरार हो गए. पीड़िता के भाई की सूचना के बाद पुलिस और परिजनों ने छात्रा की तलाश शुरू की. परिजनों को नाबालिग गांव के बाहर एक मैजिक के अंदर आपत्तिजनक हालत में पड़ी मिली. परिजन जब मामले की शिकायत दर्ज कराने थाने पहुंचे तो पुलिस मामला दर्ज करने से कतराती रही और काफी देर बाद पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ मामला तो दर्ज किया, लेकिन आरोपितों को बचाने के लिए तहरीर में बदलाव का दवाब बनाती रही. पुलिस की इस हीलाहवाली से तंग आकर पीड़िता ने पुलिस अभिरक्षा में जहर खा लिया. हालत बिगड़ने पर उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर देख उसे ट्रामा सेंटर लखनऊ रेफर कर दिया.

सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ भले ही पुलिस को महिला अपराधों के प्रति बेहद संजीदा रहने के दिशा निर्देश देते रहे हों लेकिन सीतापुर की पुलिस पर हुक्मरानों के निर्देशों का कोई असर नहीं दिखता. पुलिस अपने कार्यों में किस कदर लापरवाही कर रही है. इसकी बानगी उस समय देखने को मिली जब एक गैंगरेप पीड़िता का मुकदमा दर्ज करने में पुलिस आनाकानी करती रही. काफी जद्दोजहद के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया और दो दिन बाद पीड़िता को महिला आरक्षी के साथ जिला मुख्यालय भेजा. पुलिस की हीलाहवाली से तंग आकर पीड़िता ने पुलिस अभिरक्षा में जहर खा लिया. हालात बिगड़ने पर उसे जिला अस्पताल लाया गया, जहाँ से उसे ट्रामा सेंटर रेफर किया गया है.

यह सनसनीखेज वारदात जिले के पिसावां थाना क्षेत्र के ग्राम देवगवां की है. यहां के निवासिनी 15 वर्षीय नाबालिग छात्रा मंगलवार की रात गांव के बाहर होली परिक्रमा का मेला देखने गयी थी जिसके बाद वह देर रात अपनी सहेली के साथ घर वापस आ गयी. देर रात जब छात्रा शौच के लिए अपने सगे भाई को लेकर घर के बाहर बने शौचालय की तरफ निकली तो वहां पहले से घात लगाए बैठे तीन लोगों ने उसका फिल्मी अंदाज में अपहरण कर लिया और उसे गांव के बाहर खड़ी टाटा मैजिक में ले जाकर उसके साथ बारी बारी से दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया.

पीड़िता के भाई ने मामले की सूचना पुलिस और परिजनों को दी तो पुलिस और परिजनों ने छात्रा की तलाश शुरू की तो गांव के बाहर एक मैजिक के अंदर से छात्रा आपत्तिजनक हालत में पड़ी मिली. परिजनों के मुताबिक दबंगों ने पीड़िता का अपहरण करने के बाद उसके मुहं को कपड़े से बांध दिया था और गाड़ी के अंदर ही वारदात को अंजाम देकर मौके से फरार हो गए.

जब परिजन बुधवार की सुबह पिसावां थाने रिपोर्ट लिखाने गए तो पुलिस ने आरोपितों को बचाने के लिए तहरीर में बदलाव का जोर डाला. काफी ना नुकुर के बाद पुलिस ने पीड़िता की तहरीर पर तीन आरोपितों के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया है. पीड़िता की हालत बिगड़ने पर पुलिस अब किरकिरी से बचने के लिए जल्द कार्रवाई कर अभियुक्तों को गिरफ्तार करने की बात कर रही है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।