आप यहां हैं : होम» मनोरंजन

रिलीज़ से पहले ही आशंकाओं को जन्म दे रही है केदारनाथ

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Nov 5 2018 2:48PM
kedarnath_2018115144838.jpg

रुद्रप्रयाग. वर्ष 2013 में विश्व प्रसिद्ध केदारनाथ धाम में आई त्रासदी की पृष्ठभूमि में निर्मित फिल्म केदारनाथ के प्रदर्शन को लेकर जो उत्साह था, वह अब आशंकाओं में तब्दील होता दिखाई दे रहा है. डायरेक्टर-प्रोड्यूसर के बीच विवाद और न्यायालयी दांवपेंच के बाद पूरी हुई फिल्म केदारनाथ का पिछले दिनों सोशल मीडिया पर एक मिनट 39 सेकंड का टीजर व पोस्टर रिलीज हुआ. फिल्म के टीजर व पोस्टर रिलीज होने के साथ ही कई सवालों ने भी जन्म ले लिया है.

अभिषेक कपूर निर्देशित इस फिल्म में सुशांत सिंह राजपूत व सारा अली खान मुख्य भूमिका में हैं. फिल्म के एक हिस्से की शूटिंग केदारनाथ व आसपास के क्षेत्र में हुई है. लिहाजा, उत्तराखंड में इस फिल्म को लेकर उत्साह होना स्वाभाविक था, मगर फिल्म के टीजर व पोस्टर कुछ और ही कहानी बयान करते दिख रहे हैं.

दिसम्बर माह में रिलीज हो रही फिल्म केदारनाथ का पोस्टर एवं ट्रेलर रिलीज होते ही विरोध भी शुरू हो गया है. दरअसल, फिल्म केदारनाथ का सोशल मीडिया पर एक मिनट 39 सेकंड का टीजर व पोस्टर रिलीज हुआ. इसके बाद फिल्म के टीजर व पोस्टर रिलीज होने के साथ ही कई सवालों ने भी जन्म ले लिया है.

टीजर में एक तरफ केदारनाथ तबाह होता नजर आ रहा है, तो दूसरी ओर नायक-नायिका बोल्ड किस सीन करते दिख रहे हैं. टीजर में भगवान शंकर की मूर्ति, घंटे-घड़ियाल के दृश्यों के साथ स्क्रीन पर लिखा आता है कि इस साल करेंगे सामना प्रकृति के क्रोध और साथ में होगा सिर्फ प्यार. इस दौरान फिल्म के नायक की नमाज अदा करते एक झलक भी दिखाई देती है. फिल्म के टीजर को देखकर यह अनुमान लगाने में कोई कठिनाई नहीं होनी चाहिए कि फिल्मकार ने हिंदू मान-मर्यादाओं, प्रतीकों व संस्कृति के साथ खिलवाड़ करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी है. फिल्म के पोस्टर में नायक सुशांत कंडी में नायिका सारा को पीठ में लादकर ले जाते हुए दिख रहे हैं.

पोस्टर की पृष्ठभूमि में करोड़ों हिंदुओं की आस्था के केन्द्र बाबा केदारनाथ के मंदिर का चित्र दर्शाया गया है और फिल्म रिलीज की तिथि के साथ जो टैगलाइन दी गई है उसका मतलब है कि प्यार एक तीर्थ यात्रा है. यानी श्री केदारनाथ धाम की यात्रा पर जाने वाले प्रेम पुजारी होते हैं. वहीं टीजर में दिखाये गये दृश्यों पर तीर्थ पुरोहित समाज एवं स्थानीय लोगों ने आपत्ति जताई है. उनकी मानें तो करोड़ों हिन्दुओं की आस्था के प्रतीक भगवान केदारनाथ की आस्था के साथ फिल्म निर्माता ने खिलवाड़ किया है. फिल्म को धर्म से जोड़कर दिखाया गया है, जबकि ऐसे दृश्य दिखाए गये हैं जो श्रद्धालुओं की आस्था को ठेस पहुंचा रहे हैं.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।