आप यहां हैं : होम» राज्य

समापन की ओर बढ़ चला लखनऊ पुस्तक मेला

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Feb 9 2019 6:48PM
book fair_201929184858.jpeg

लखनऊ. रिजर्व बैंक के सामने संगीत नाटक अकादमी परिसर गोमतीनगर में 10 फरवरी तक चलने वाला लखनऊ पुस्तक मेला और अंकुरम शिक्षा महोत्सव समापन की ओर बढ़ चला है. यहां सूबे के 11 जिलों से आई बाल प्रतिभाओं के कार्यक्रम भी देखने को मिल रहे हैं तो साहित्य-संस्कृति प्रेमियों के लिए लोकगीता व विविध आयोजन बराबर हो रहे हैं.

‘महापर्व कुम्भ’ थीम पर आधारित पुस्तक मेले में आज खूब रौनक दिखाई दी. मेले में प्रकाशन संस्थान का स्टाल साहित्य और किताबों की दृष्टि से महत्वपूर्ण है. यहां नई किताबों में प्रमोद भार्गव का उपन्यास दशावतार का दो खण्डों में करमाजोव ब्रदर्स, चओ ताशिन का झील और पहाड़ का रोमांच, आ लाए का लाल पोस्ते के फूल और कथा संग्रहों में अभय की सोनचिरइया, अजय गोयल का काला ताज खास हैं. इसके अलावा यहां पत्रकारिता, कविताओं, स्त्री विमर्श, विज्ञान, विचार कोश, यात्रा वृतांत व जीवनियां व विदेशी साहित्य भी खूब है.

मेले में कोलकाता के ढेरों डिजाइनों में जू्ट बैग्स हैं तो एफडीडीआई रायबरेली फुसरतगंज के स्टाल पर इण्टर पास विद्यार्थियों को अप्रैल-मई से शुरू हो रहे चार साल व तीन साल के कोर्स की जानकारी दी जा रही है. स्नातक युवाओं के लिए एम.डेस. व एमबीए का दो साल का कोर्स है. पुस्तक मेले की बुक आर्ट एग्जीबीशन भी लोगों को पसंद आ रही है.

मेला संयोजक ने बताया कि सड़क सुरक्षा सप्ताह के तहत कल आयोजित समारोह में जिलाधिकारी और परिवहन विभाग के अधिकारी भाग लेंगे. साथ ही इस अवसर पर आयोजित चित्रकला प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरित किये जाएंगे.

संस्था के अंकुरम शिक्षा महोत्सव में यूपी त्रिपाठी के संयोजन, आशीष व जीतेष श्रीवास्तव के संचालन में अदीब मुमताज, अंशू दीक्षित, अदिति, शिवानी, रोशननी प्रजापति, स्वाति श्रीवास्तव, श्वेता गुप्ता, प्रिय विश्वकर्मा, वंशिता रावत, प्रज्ञा सिमरन, उर्मि, सोनाक्षी, साधना, रितिका, निकिता, उन्नति, वैष्नवी त्रिवेदी, चेतना वर्मा, पूनम, नितिन अवस्थी, हर्ष सिंह ने ओ रे पिया..., नैनो वाले ने....व झुमका गिरा रे...जैसे गीतों पर नृत्य किया ओर नृत्य व समूह नृत्य की प्रस्तुतियां दी. कुछ युवा प्रतिभाओं ने ऐ वतन मेरे वतन... सरीखे गीत सुनाकर यहां जोश भी भरा. अन्य बच्चो ने भी प्रतिभा दिखायी. इससे पहले संस्कार भारती के संयोजन में यहां कथक नृत्यांगना, शिक्षाविद् व संगीत नाटक अकादमी की सभापति पूर्णिमा पाण्डेय का सम्मान महापौर संयुक्ता भाटिया व डा.विनीता सिंह ने अंगवस्त्र, स्मृतिचिह्न, पुष्प इत्यादि देकर किया.

इस अवसर पर कुशल गायिका कुसुम वर्मा ने जन्म, नामकरण, विवाह आदि के परम्परागत लोकगीत गाकर माहौल जीवंत कर दिया. प्रो.कमला श्रीवास्तव की अध्यक्षता में हुए इस समारोह में डा.विद्याविंदु सिंह, डा.ऊषा सिन्हा, ऊषा सिंह, शिवा सिंह, ऋचा जोशी, कनक वर्मा आशा श्रीवास्तव व विक्रम बिष्ट की मौजूदगी रही. इसके साथ ही आज यहां युग गरिमा पत्रिका के समारोह में पोर्टल का शुभारम्भ किया गया. शाम को रेड ब्रिग्रेड की ओर से आत्मरक्षा के गुर खासकर बालिकाओं को बताए गये.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।