आप यहां हैं : होम» अपराध

मुरादाबाद पुलिस का इन्काउन्टर स्टाइल

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Apr 12 2019 1:09PM
moradabad_20194121391.png

मुरादाबाद. लोकसभा चुनाव अपना पहला पायदान पार कर आराम कर रहा था, तो उधर जनपद मुरादाबाद में थाना कटघर क्षेत्र में पुलिस और बदमाश के बीच मुठभेड़ में एक शातिर बदमाश के घायल होने की सूचना आग की तरह फ़ैल गयी, लेकिन मौके पर पुलिस अधिकारी एक बाईक, एक पिस्टल और एक कारतूस के अलावा कुछ नहीं था. वहां मौजूद एसपी अंकित मित्तल से घटना के बारे में बदमाश के बारे में पूछा तो उनका कहना था कि एक बदमाश जो हिस्ट्रीशीटर भी है वह भागने का प्रयास कर रहा था. उसका पीछा किया तो घिरता देख उसने पुलिस पार्टी पर दो राउंड तमंचे से फायर किये. उसके पास से एक बाईक और एक तमंचा बरामद हुआ है. घायल बदमाश पर एक दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं. बदमाश को घायल अवस्था मे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

जबकि मौके पर पिस्टल जमीन पर पड़ी दिखाई दे रही थी. बस फिर क्या था मीडिया का रुख जिला अस्पताल की तरफ मुड़ गया. मीडिया के कैमरे अस्पताल में भी अपनी भूमिका निभा रहे थे. मुरादाबाद के जिला अस्पताल में सन्नी नाम के बदमाश को घायल अवस्था में पुलिस द्वारा लाया गया था. सूचना पर आरोपित बदमाश सन्नी के परिजन भी अस्पताल पहुँच गए थे, और पुलिस अधिकारियों के सामने ही इस पुलिसिया कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए हंगामा शुरू कर दिया.

जिला अस्पताल में आरोपित बदमाश के परिजनों द्वारा हंगामे की सूचना पर घटनास्थल पर मीडिया से रूबरू होने वाले एसपी भी आनन फानन में अस्पताल पहुँच गये, लेकिन मीडिया के कैमरे अस्पताल में घट रही हर हरकत पर लगातार नजर रखे हुए थे. पुलिस अधिकारियों के सामने ही आरोपित बदमाश ने बताया कि उसकी तारीख थी. पुलिस वाले (नाम लेते हुए) उसकी बाईक से ही कटघर थाना क्षेत्र की एक चौकी में ले गये. जहाँ वह लोग (रंजिश रखने वालों का नाम लेते हुए) पहुंचे और उसके बाद उसे रामगंगा पुल पर ले आये, और वायरलेस पर उसी की बाईक को चोरी की बताते हुए उसका नम्बर फ्लेश करने लगे. जब उसने पुलिस कर्मियों से कहा कि यह तो मेरी गाड़ी का ही नम्बर है, तो उन्होंने बोरी बांधकर उसके पैर में गोली मार दी.

अधिकारियों और पुलिस कर्मियों के सामने आरोपित बदमाश मीडिया कर्मियों को अपना बयान दे ही रहा था कि अस्पताल में मौजूद एसपी और अन्य पुलिस अधिकारियों का इशारा मिलते ही दरोगा और पुलिस कर्मी हरकत में आ गए और मीडिया कर्मियों को कवरेज करने से रोकते हुए कैमरे बंद करने के लिए कहते हुए उन्हें जबरदस्ती बाहर का रास्ता दिखा दिया, जिसके बाद परिजन और भड़क गए. हंगामा बढ़ते देख वहां से पुलिस अधिकारी अपनी किरकिरी होते देख फोन को कान से लगाते हुए चले गए, लेकिन आरोपित बदमाश के परिवार की महिलायें और पुरुष इस पुलिसिया कार्रवाई पर रोते बिलखते और हंगामा करते हुए सवाल खड़े करते जरुर दिखाई दिए.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।