आप यहां हैं : होम» धर्म-कर्म

मान की रक्षा करती हैं माँ स्कन्द माता

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Apr 10 2019 12:08PM
skandmata_201941012834.jpg

वाराणसी. नवरात्रि देवी दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ माँ बागेश्वरी देवी के मंदिर में उमड़ पड़ी है. नवरात्र देवी के पाचंवे स्वरूप माँ स्कंदमाता के रूप का दर्शन का विधान है. वाराणसी में माँ स्कंदमाता बागेश्वरी देवी के रूप में विद्यमान है. यहाँ माँ स्कंदमाता का बागेश्वरी  रूपी भव्य मंदिर मंदिर अति प्राचीन है. रात से ही यहाँ माँ के दर्शनों के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ती है.

माँ स्कंदमाता रूपी बागेश्वरी को विद्या की देवी माना जाता है. यहाँ माँ पर नारियल चढ़ाने का विशेष महत्व है. माँ को चुनरी के साथ लाल गुलहड़ की माला और मीठे का भी भोग लगाया जाता है. जिससे माँ अपने भक्तों को सदबुद्धि और विद्या के अनुरूप वरदान देती है. माता के मंदिर में प्रसाद के रूप में नारियल, इलाइची दाने के साथ-साथ किशमिश का भी वितरण होता है. वाराणसी का स्कन्द माता बागेश्वरी  रूपी दुर्गा मंदिर सैकड़ों वर्षों से भक्तों की आस्था का केंद्र रही है.

दोनों ही नवरात्र में मां स्कंदमाता के दर्शनों का विशेष महत्व है. इसी समय भक्त माँ के दर्शन व पूजन करते है और माँ स्कंदमाता रूपी बागेश्वरी जी उनकी मनोकामना पूर्ण करती है. कोई अपने लिए विद्या मांगता है तो कोई नौकरी के लिए दुआ करता है. नवरात्र के दिनों में भक्त माँ के दर्शन करते हैं और और उनसे अपने मान की रक्षा की इक्षा जाहिर करते हैं. माँ भी अपने भक्तों की कामना पूर्ण करती है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।