आप यहां हैं : होम» देश

शामली में टेररिस्ट ऑर्गनाइजेशन कैंप लगाना चाहता है पाकिस्तान

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: May 25 2019 1:19PM
Shamli_2019525131932.jpg

शामली. दिल्ली और एनसीआर के कई स्टेशनों को उड़ाने की धमकी के मामले में पकड़े गए संदिग्ध आतंकियों से अभी पूछताछ पूरी भी नहीं हुई थी कि पाकिस्तान से आए एक व्हाट्सएप मैसेज ने शामली पुलिस के होश फाख्ता कर दिए हैं. मैसेज में लिखा है कि वह शामली में एक टेरेरिस्ट ऑर्गेनाइजेशन कैम्प खोलना चाहते हैं. पाकिस्तान की तरफ से आया ये मैसेज शामली के एक युवक को उसके व्हाट्सएप नंबर पर मिला है. व्हाट्सएप नंबर पर मिले इस मैसेज के बाद से शामली पुलिस की नींद उड़ी हुई है.

पूरा मामला शामली के गढ़ी पुख़्ता थाना क्षेत्र के गढ़ी अब्दुल्ला गांव का है. जहां के रहने वाले शाकिर अली नाम के एक युवक के व्हाट्सएप पर मैसेज आया है. जिसमें शामली में एक टेरेरिस्ट ऑर्गेनाइजेशन कैंप खोलने की बात कही गई है. मैसेज आते ही युवक ने पुलिस को पूरे मामले की सूचना दी. जिसके बाद पुलिस ने युवक के मोबाइल को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है.

आपको बता दें कि इससे पहले शामली रेलवे स्टेशन के स्टेशन अधीक्षक को डाक से शामली स्टेशन और यूपी व एनसीआर के कई स्टेशनों को उड़ाने का धमकी मिली है.

जनपद शामली के थाना गढ़ी पुख़्ता क्षेत्र के गांव गढ़ी अब्दुल्ला के रहने वाले शाकिर अली नाम के युवक को उसके व्हाट्सएप पर एक अज्ञात नंबर से एक व्हाट्सएप मैसेज आता है जिसमें मैसेज भेजने वाला युवक शाकिर को हाय लिखता है. जिसके बाद शाकिर हुसैन हाय लिखता है और पूछता है कि कौन. जिसके बाद मैसेज भेजने वाला युवक लिखता है कि मैं पाकिस्तानी. तो शाकिर जवाब देता है कि मैं क्या करूं क्या बात थी, बोलो, और उसके बाद अज्ञात नंबर से जो मैसेज शाकिर को मिलता है उसको पढ़ कर उसके होश उड़ गए. अज्ञात नंबर से आए मैसेज में आगे लिखा गया था कि वह शामली में एक टेरेरिस्ट ऑर्गेनाइजेशन कैम्प खोलना चाहते हैं. क्या उसे खोलने में वह उनकी मदद करेंगे. इस सनसनीखेज मैसेज के मिलते ही शाकिर ने उस अज्ञात नंबर को ब्लॉक कर दिया और अज्ञात नंबर से आए मैसेज का स्क्रीनशॉट ले लिया और सारे मामले की जानकारी शामली पुलिस को दी.

पाकिस्तान से मैसेज आने की बात सुनते ही शामली पुलिस के भी होश फाख्ता हो गए. शाकिर अली बारहवीं तक पढ़ा है और गांव में ही एक परचून की दुकान चलाता है. फिलहाल शामली पुलिस ने शाकिर के मोबाइल को अपने कब्जे में ले लिया है और मामले की तफ्तीश में जुट गई है. पहले शामली रेलवे स्टेशन के स्टेशन अधीक्षक को डाक द्वारा शामली स्टेशन व यूपी और एनसीआर के कई स्टेशनों को उड़ाने का धमकी भरा पत्र मिला था. जिस पत्र को आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा भेजना बताया जाता है, तो उसके कुछ दिन बाद शामली पुलिस अधीक्षक की ऑफिशल मेल आईडी पर यूपी और एनसीआर के कई स्टेशनों को 72 घंटे के अंदर बम से उड़ाने का धमकी भरा पत्र मिला और अब एक अज्ञात नंबर से अपने आप को पाकिस्तान का बताकर शामली में टेरेरिस्ट ऑर्गेनाइजेशन कैंप खोलने की बात का मामला सामने आना कहीं न कहीं किसी आतंकी संगठन की साजिश की ओर इशारा करता है, और इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि इन सभी के पीछे किसी बड़े आतंकी संगठन का हाथ हो सकता है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।