आप यहां हैं : होम» राज्य

शर्म से पानी-पानी हो रहे हैं लखनऊ को स्वच्छ बनाने के दावे

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: May 15 2019 4:22PM
lko-2_2019515162217.png

लखनऊ. राजधानी लखनऊ को स्वच्छ बनाने के एक तरफ बड़े-बड़े दावे किये जा रहे हैं तो वहीं यहां की सड़कों का हाल ऐसा है कि कोई भी इसे देख ले तो शर्म से पानी पानी हो जाए. ताजा मामला वजीरगंज थाना क्षेत्र के सिटी स्टेशन के पास बने रेलवे ट्रैक अंडर पास की सड़कों का है. यहां की गड्ढेदार सड़कों पर लोगों का चलना मुश्किल हो गया है. सड़कों पर इतना कूड़ा है कि बदबू से यहां निकलना किसी सजा से कम नहीं है.

बताया जा रहा है कि यहां एक नाला है जो खुला हुआ है. इसका पानी सड़क पर बहता रहता है. इस मामले में यहां के स्थानीय लोगों ने कई बार नगर निगम में मामले की शिकायत की लेकिन नगर निगम ने मामला रेलवे के ऊपर डाल दिया. इस मामले पर जब नगर आयुक्त से बात की गई तो उन्होंने इसे रेलवे विभाग की जिम्मेदारी बताया. लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर कहीं गड़बड़ी है तो इंजीनियर्स को भेजकर समस्या का समाधान कराया जाएगा.

स्वच्छता और गड्ढा मुक्त सड़कों के नाम पर बनी सरकार में लोगों का रोड पर चलना दुश्वार हो गया है. इतना ही नहीं बीच रोड पर खुले नाले हर रोज़ हादसों को दावत दे रहे हैं, और नगर निगम द्वारा लगातार बेहतर सुविधा देने के दावे खोखले साबित हो रहे हैं. जिससे हालात दिन प्रतिदिन बद से बदतर होते जा रहे हैं.

हम बात कर रहे हैं राजधानी लखनऊ के वजीरगंज थाना क्षेत्र के सिटी स्टेशन के पास बने रेलवे ट्रैक अंडर पास की. जहाँ गड्ढों से तो लोग परेशान थे लेकिन अब परेशानी दोगुनी हो गई है क्योंकि रोड के किनारे बने नालों की न तो सफाई होती है और न कोई देखरेख. इतना ही नहीं हर दिन कार और बाइक सवार बीच सड़क पर खुले नाले के होल में फंसे हुए नज़र आते हैं जिससे वह खुद तो चोटिल होते हैं वाहन भी क्षतिग्रस्त होता है. साथ ही लंबा जाम लगता है.

स्थानीय लोगों ने कई बार इसकी शिकायत नगर निगम में की लेकिन नगर निगम इसे रेलवे विभाग की जिम्मेदारी बताकर अपना दामन  झाड़ लेता है. क्योंकि रेलवे ट्रैक होने के कारण रेलवे के विभाग के अंतर्गत आने वाली जगहों पर नगर निगम भी इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है, और खामियाज़ा राजधानी की जनता को भुगतना पड़ रहा है. इस मामले पर जब नगर आयुक्त से बात की तो उन्होंने भी इसे रेलवे की जिम्मेदारी बताया. साथ ही कहा फिर भी हम अपने इंजीनियर्स भेजकर समस्या को जल्द ही खत्म करेंगे. अब देखना होगा कि नगर आयुक्त का किया वादा कितनी जल्दी पूरा होता है या फिर यह भी गड्ढा मुक्त प्रदेश की सड़क की तरह हवा-हवाई साबित होता है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।