आप यहां हैं : होम» राज्य

जाम से जूझ रही है पहाड़ों की रानी मसूरी

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Jun 11 2019 6:50PM
Masoorie_2019611185028.png

मसूरी. पहाड़ों की रानी मसूरी इन दिनों जाम के झाम से जूझ रही है. मसूरी में अत्याधिक पर्यटकों के आने से व्यवस्था भी चरमराती हुई नजर आ रही है, मसूरी में ओवर क्राउड होने के कारण पर्यटकों को होटलों व गेस्ट हाउस में रहने के लिए जगह उपलब्ध नहीं हो पा रही. जिस कारण लोगों को वापस देहरादून का रुख करना पड़ रहा है. वहीं कई लोग मसूरी के हवा घरों और सड़क किनारे रात गुजारने को मजबूर हो रहे हैं.

मसूरी की बात की जाए तो मसूरी में इन दिनों पर्यटक सीजन ज़ोरों पर है, क्योंकि इन दिनों मैदानी इलाके में भीषण गर्मी पड़ रही है. जिससे बचने के लिए लोग पहाड़ों का रुख कर रहे हैं. जिससे उनको गर्मी से राहत मिल सके, परंतु पर्यटकों के लिए पर्याप्त सुविधा उपलब्ध न होने के कारण पर्यटक काफी परेशान हैं. उनका कहना है कि सरकार और प्रशासन देश-विदेश के पर्यटकों को उत्तराखंड आने का न्योता देती तो हैं परंतु व्यवस्थाओं को सुविधाओं के नाम पर कुछ भी नहीं किया गया है. जिससे उनको काफी परेशानियों को सामना करना पडता है.

यातायात की व्यवस्था पूरी तरीके से खराब है. देहरादून से मसूरी एक घंटे में पहुंचा जाता था, परन्तु ट्रैफिक जाम के कारण उनको मसूरी पहुँचने में तीन से चार घंटे लग रहे हैं. मसूरी में पार्किंग की सुविधाएं भी बहुत कम हैं जिससे पर्यटकों को अपने वाहन को पार्क करने में भी खासी दिक्कत पेश आ रही है.

पहाड़ी क्षेत्रों में पार्किंग का निर्माण होना चाहिए. जहाँ ट्रैफिक जाम की स्थिति उत्पन्न हो वहां कई वैकल्पिक मार्गों का निर्माण भी होना चाहिए. जिससे अत्याधिक पर्यटकों के आने पर उनको वैकल्पिक मार्गों से गंतव्य तक पहुंचाया जा सके. प्रशासन को मसूरी में होटलों और गेस्ट हाउस पर भी शिकंजा कसना चाहिए. देखने को मिल रहा है कि जब मसूरी में पर्यटकों की भीड़ होती है, तो यह लोग अपने होटलों और गेस्ट हाउस के रेट को कई गुना बढ़ा देते हैं. जिससे पर्यटक के बजट पर खासा असर पड़ता है.

मसूरी कोतवाल भावना कैन्थोला ने बताया की मसूरी में पर्यटन सीजन को लेकर तैयार किया गया एक्शन प्लान लगभग कामयाब है, परन्तु मसूरी में अनुमान से ज्यादा वाहन आने के कारण व्यवस्था चरमरा गई थी. उन्होंने कहा कि पर्यटकों के वाहन के साथ स्थानीय लोगों और आसपास के क्षेत्र के कई वाहन हैं. जिससे पर्यटकों की जयादा भीड़ आने से जाम कि स्थिति पैदा हुई है.

उन्होंने बताया कि ट्रैफिक जाम कि स्थिति से निपटने के लिये मसूरी के सभी मुख्य चौराहों पर एक एसआई के नेतृत्व में अतिरिक्ति पुलिस बल तैनात किया गया है. उन्होंने कहा कि पुलिस का प्रयास रहता है कि जाम की स्थिति उत्पन्न न हो परन्तु मसूरी के सक्रिय रोड और पार्किंग की अत्याधिक व्यवस्था न होने के कारण अक्सर ट्रैफिक जाम होता है.

मसूरी के स्थानीय निवासी सुधीर डोभाल ने कहा कि मसूरी में पर्यटन सीजन में हर साल जाम कि स्थिति पैदा होती है. जिसको लेकर प्रशासन और पुलिस बड़ी-बड़ी बैठक कर मसूरी में लगने वाले जाम का समाधान निकालने की बात करते हैं परन्तु धरातल में देखा जाये तो समस्या जहाँ की तहां है.

मसूरी में कई होटल ऐसे है कि जिसमें पार्किंग की सुविधा ही नहीं है. ऐसे में होटलों द्वारा सड़क किनारे वाहनों को पार्क किया जाता है. जिससे भी जाम लगता है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।