आप यहां हैं : होम» राज्य

तीसरे चरण के चुनाव में सपा की प्रतिष्ठा दांव पर

Reported by nationalvoice , Edited by shabahat.vijeta , Last Updated: Apr 22 2019 4:54PM
Third face_2019422165432.jpg

लखनऊ. लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में 23 अप्रैल को यूपी की 10 लोकसभा सीटों पर वोट डाले जाएंगे. यूपी में तीसरे चरण में मुरादाबाद, संभल, रामपुर, पीलीभीत के साथ बरेली, आंवला, बदायूं में वोट डाले जाएंगे. एटा, मैनपुरी और फिरोजाबाद में भी 23 अप्रैल को मतदान होगा. यूपी की इन 10 सीटों पर मुकाबला बेहद दिलचस्प तो होगा ही साथ ही इन 10 सीटों पर जीत हासिल करना काफी कठिन भी माना जा रहा है.

ऐसा इसलिए क्योंकि इन 10 में से 9 सीटों से सपा के उम्मीदवार बीजेपी को सीधी टक्कर देंगे. मोदी लहर में 2014 में इन 10 में सात सीटों पर बीजेपी का कब्जा था तो वहीं तीन पर सपा काबिज थी लेकिन इस बार समीकरण कुछ अलग हैं. समाजवादी पार्टी ने 9 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं. जबकि एक सीट पर बसपा प्रत्याशी मैदान में है. मैनपुरी से मुलायम सिंह यादव मैदान में हैं. फिरोजाबाद से अक्षय यादव बीजेपी को टक्कर देते दिखेंगे. वहीं रामपुर की सीट पर सपा से आजम खान और बीजेपी की जया प्रदा के बीच मुकाबला होगा.

बरेली सीट पर केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार को सीधी टक्कर कांग्रेस के प्रवीण कुमार और सपा के प्रत्याशी भागवत शरण गंगवार से मिलेगी. पीलीभीत सीट पर बीजेपी के फायर ब्रांड नेता वरुण गांधी और सपा के हेमराज आमने सामने हैं. राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि इन सीटों पर सीधी टक्कर बीजेपी और गठबंधन के बीच होगी. कुछ एक सीटों पर मुकाबला त्रिकोणीय हो सकता है.

तीसरे चरण में दस में से 9 सीटों पर गठबंधन से सपा के उम्मीदवार हैं. इन सीटों पर 2014 के लोकसभा चुनाव में  भाजपा ने 7 और सपा ने तीन सीटें जीती थीं. इस चरण में पूर्व रक्षा मंत्री मुलायम सिंह यादव केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार, शिवपाल सिंह यादव, वरुण गांधी, आजम खान, जयाप्रदा, राजवीर सिंह और सलीम शेरवानी के साथ इमरान प्रतापगढ़ी जैसे दिग्गजों की साख दांव पर लगी है. इस चरण के 10 सीटों पर चुनाव होना है. वह सपा का गढ़ मानी जाती हैं. सपा इनमें 9 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. एक मात्र आंवला सीट बसपा के खाते में है.

तीसरे चरण में होने वाले मतदान में राजनीतिक दलों का अपना अपना दावा है. हरेक दल का दावा है कि तीसरे चरण का मतदान हमारे पक्ष में होने वाला है. पिछली बार मोदी लहर में सपा ने इस 10 सीटों में से तीन सीटों पर कब्जा कर पाई थी वही बाकी सीटों पर मोदी लहर में बीजेपी ने कब्जा किया था. उस लिहाज से दोनों पार्टियों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. मैनपुरी से मुलायम सिंह यादव मैदान में हैं. यह उनका पुराना गढ़ है. फिरोजाबाद में शिवपाल का मुकाबला उनके भतीजे अक्षय यादव से है. रामपुर की सीट पर मुकाबला रोचक है. सपा के आजम खान को बीजेपी की जयाप्रदा टक्कर दे रहे हैं. इसी तरह बरेली सीट पर केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार को सीधी टक्कर कांग्रेस के प्रवीण कुमार एरन और सपा के प्रत्याशी भागवत शरण गंगवार से चुनौती मिल रही है. बदायूं से सपा मुखिया अखिलेश यादव के चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव को बीजेपी की संघ मित्रा व कांग्रेस के सलीम शेरवानी से टक्कर मिल रही है. धर्मेंद्र इस सीट पर 2009-2014 में संसद चुने गए है. एटा में इस बार चुनावी जंग बड़ा रोचक है, यहाँ के मौजूदा संसद राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के बेटे राजवीर सिंग की सपा के कैंडिडेट कुँवर देवेन्द्र सिंह से आमने-सामने की टक्कर है.


देश-दुनिया की अन्य खबरों और लगातार अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें। आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं।